latest financial news : आने वाले दिनों में सस्ता होगा कर्ज, RBI गवर्नर ने दी संकेत, कहा- देश का बैंकिंग सिस्टम मजबूत…

latest financial news : आने वाले दिनों में सस्ता होगा कर्ज, RBI गवर्नर ने दी संकेत, कहा- देश का बैंकिंग सिस्टम मजबूत…

  • आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने एक कार्यक्रम में कहा कि चाहे दर में कटौती हो या फिर अन्य नीतिगत कदम, हमारे तरकश के तीर अभी खत्म नहीं हुए हैं।
  • आरबीआई ने कोविड-19 महामारी के बीच लोगों को राहत देने के लिए बैंक सोने के मूल्य के 90 फीसदी के बराबर कर्ज देने का प्रावधान किया।पहले यह सीमा 75 फीसदी थी।

NEWSTODAYJ :(एजेंसी) नई दिल्ली : भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने ब्याज दरों में आगे और कटौती के संकेत देते हुए बृहस्पतिवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी से अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए किए गए उपायों को जल्द नहीं हटाया जाएगा।आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने एक कार्यक्रम में कहा कि चाहे दर में कटौती हो या फिर अन्य नीतिगत कदम, हमारे तरकश के तीर अभी खत्म नहीं हुए हैं।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : सर्किट हाउस से कोविड – 19 टेलीमेडिसिन स्टूडियो का शुभारंभ…

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

उन्होंने कहा कि देश का बैंकिंग सिस्टम मजबूत और स्थिर है. कोरोना वायरस महामारी के इस दौर में भी भारत के बैंकिंग सिस्टम ने अपनी क्षमता बरकरार रखी है।रिजर्व बैंक ने 6 अगस्त को जारी नीतिगत समीक्षा में रेपो दरों में कोई बदलाव नहीं किया था।केंद्रीय बैंक इससे पहले पिछली दो बैठकों में पॉलिसी रेट में 1.15 फीसदी की कटौती कर चुका है।फिलहाल रेपो दर 4 फीसदी, रिवर्स रेपो दर 3.35 फीसदी और एमसीएफ दर 4.25 फीसदी है।वहीं, आरबीआई ने कोविड-19 महामारी के बीच लोगों को राहत देने के लिए बैंक सोने के मूल्य के 90 फीसदी के बराबर कर्ज देने का प्रावधान किया।पहले यह सीमा 75 फीसदी थी।सावधानी के साथ आगे बढ़ना होगा।

यह भी पढ़े…Inflation : आलू , सब्जी का महंगाई का मार झेल रहे आम जनता , 200 रुपए खर्च के बाद भी आधा थैले लेकर मायूस होकर लौट रहे घर…

आरबीआई गवर्नर ने कहा कि महामारी की रोकथाम के बाद अर्थव्यवस्था को मजबूती के रास्ते पर लाने के लिए सावधानी के साथ आगे बढ़ना होगा।केंद्रीय बैंक द्वारा पिछले दिनों घोषित राहत उपायों के बारे में दास ने कहा, ‘‘किसी भी तरह से यह नहीं मानना चाहिए कि आरबीआई उपायों को जल्द हटा लेगा।’’ उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के प्रकोप और अन्य पहलुओं पर एक बार स्पष्टता होने के बाद आरबीआई मुद्रास्फीति और आर्थिक वृद्धि पर अपने पूर्वानुमान देना शुरू कर देगा।बैंक मर्जर सही दिशा में एक कदम।

यह भी पढ़े…Politics : भाजपा के दबाव में जनता को मिली बड़ी राहत,निजी अस्पताल में कोरोना के इलाज की दर जारी – प्रतुल शाहदेव…

उन्होंने कहा कि कुल मिलाकर, बैंकिंग क्षेत्र लगातार मजबूत और स्थिर बना हुआ है और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का एकीकरण सही दिशा में एक कदम है। दास ने कहा, ‘‘बैंकों का आकार जरूरी है, लेकिन दक्षता इससे भी महत्वपूर्ण है।’’ उन्होंने कहा कि बैंक स्ट्रेस का सामना करेंगे, यह जाहिर सी बात है, लेकिन अधिक महत्वपूर्ण यह है कि बैंक चुनौतियों के समक्ष किस तरह से प्रतिक्रिया देते हैं और उसका सामना करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here