Karva Chauth 2020 : महिलाएं का समर्पण भाव,पति की दीर्घायु व परिवार की खुशहाली के लिए निर्जल-निराहार रखेंगीं व्रत…

यहाँ देखे वीडियो।

Karva Chauth 2020 : महिलाएं का समर्पण भाव,पति की दीर्घायु व परिवार की खुशहाली के लिए निर्जल-निराहार रखेंगीं व्रत…

NEWSTODAYJ धनबाद : आज पति की दीर्घायु व परिवार में सुख-समृद्धि की कामना लिए बुधवार को करवा चौथ पर महिलाएं व्रत रखेंगी। वह दिनभर भूखी-प्यासी रहेंगी। शाम को चन्द्रोदय के समय महिलाएं सजधज कर प्रथम पूज्य गणेश व शिव पार्वती का पूजन करेंगी। वह चन्द्रमा को अघ्र्य अर्पित कर पति के हाथों जल पी कर व्रत खोलेंगी।

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

यह भी पढ़े…Coronavirus : झारखंड राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के 397 नए मामले, पांच की मौत…

करवा चौथ पर बुधवार को चतुर्थी का चांद रात को 8.23 बजे उदय होगा। इस मौके पर दानपुण्य किया जाएगा।बुधवार की सुबह महिलाएं व्रत को लेकर काफी उत्सुक नजर आईं। इससे पहले मंगलवार को महिलाएं करवा चौथ की तैयारियों मेंं व्यस्त दिखाई दी। उन्होंने भोग के लिए खाजे बनाए। समय निकालकर मेंहदी लगवाई। करवे, उपहार, फल-मिष्ठान इत्यादि खरीदे। बाजारों में भी सुहागिनों के प्रमुख पर्व की रौनक नजर आई।

शुभ संयोग से बढ़ेगी समृद्धि।

खीण्या वाले ज्योतिषाचार्य शिव प्रकाश दाधीच के अनुसार करवा चौथ पर सर्वार्थ सिद्धि योग रहेगा। दाधीच के अनुसार चतुर्थी तिथि मंगलवार को मध्यरात बाद 3.21 बजे शुरू होगी, जो 4 नवम्बर को उत्तर रात्रि 5.12 बजे तक रहेगी।करवा चौथ के दिन मृगशिरा नक्षत्र रहेगा। मृगशिरा राशि का स्वामी चन्द्रमा होता है। इनकी राशि के स्वामी शुक्र हैं। इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग रहेगा। इसमें पूजन सुख समृद्धि दायक रहेगा।

द्रोपदी ने भी किया था अर्जुन के लिए व्रत।

करवा चौथ के व्रत को लेकर कई कथाएं हैं। इनमें से एक पौराणिक कथा के अनुसार वनवास के दौरान अर्जुन दिव्य शस्त्र की प्राप्ति के लिए इन्द्रनील पर्वत पर तपस्या करने गए। काफी समय तक वह नहीं लौटे तो द्रोपदी को चिंता सताने लगी। इस पर भगवान श्री कृष्ण ने द्रोपदी को चौथ का व्रत बताया। व्रत करने पर अर्जुन सकुशल लौटे आए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here