Jharkhand News : स्वच्छता सर्वे में बचे 2 महीने, कैसे सुधरेगी रैंकिंग…

0
न्यूज़ सुने

Jharkhand News : स्वच्छता सर्वे में बचे 2 महीने, कैसे सुधरेगी रैंकिंग…

NEWSTODAYJ रांची : स्वच्छता सर्वे शुरू होने में अब दो महीने बचे हैं। लेकिन राजधानी रांची को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि नगर निगम की तैयारी कितनी सुस्त चल रही है। कहीं पब्लिक टॉयलेट पर ताला लगा है तो कहीं गंदगी का अंबार लगा है। इतना ही नहीं, कई जगहों पर निगम ने ही गंदगी फैलाने का इंतजाम भी कर दिया है। ऐसे में सर्वे में रांची की रैंकिंग में कितना सुधार होगा यह तो समय ही बताएगा।

यह भी पढ़े…Jharkhand News : बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दिपक प्रकाश के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज…

मॉड्यूलर टॉयलेट में ताला लोगों को नेचुरल कॉल आए तो खुले में न जाना पड़े इसके लिए नगर निगम ने सिटी में मॉड्यूलर टॉयलेट बनाए हैं। हर चौक चौराहे के आसपास में पब्लिक टॉयलेट भी है, जिसमें पब्लिक टॉयलेट तो खुले हुए हैं, लेकिन इस पर ताला लगा दिया गया है। अब सवाल यह उठता है कि जब टॉयलेट में ताला लगा है तो इंसान जाएगा कहां? मजबूरी में या तो उसे नेचुरल काल को रोकना होगा या फिर खुले में जाना होगा।

यह भी पढ़े…Jharkhand News : बच्चे की मौत के बाद ग्रामीणों ने किया सड़क जाम…

कचरे के कारण सांस लेना मुश्किल।टॉयलेट में ताला लगाने के अलावा उसके आसपास में घेराबंदी कर दी गई है। इस वजह से वहां पर लोगों ने कचरा डालना शुरू कर दिया है। स्थिति यह है कि अब पास से गुजरना भी लोगों के लिए आफत बन गया है। भले ही वहां पर ब्लीचिंग का रेगुलर छिड़काव कराया जा रहा है पर दुर्गध ने लोगों का सांस लेना मुश्किल तो कर ही रखा है।स्वच्छता सर्वे 2020 में रांची को देशभर में 30वीं रैंक मिली थी,

यह भी पढ़े…Crime News : महिला पर गोलीबारी औैर युवक का फंदे से झूलता हुआ शव , महिला घयाल , जांच में जुटी पुलिस…

जिसमें वेस्ट डिस्पोजल की व्यवस्था नहीं होने के कारण रांची को एक भी मा‌र्क्स नहीं मिला था। जबकि पेपर में नगर निगम ने अपनी पूरी तैयारी की थी। इस बार भी रांची नगर निगम पेपर को अपडेट करने में लगा है। कागजों पर ही सारी तैयारी की जा रही है। लेकिन जमीन पर कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा।

फाइलों में ही अटकी सफाई-डिस्पोजल व्यवस्था

डोर टू डोर का काम अभी रांची नगर निगम खुद कर रहा है। लोड अधिक होने के कारण हर घर तक निगम की टीम नहीं पहुंच पा रही है, जिससे कचरा का कलेक्शन रेगुलर नहीं हो पा रहा है। अब नगर निगम ने एजेंसी को फाइनल करने के बाद नगर विकास विभाग को भेज दिया है। लेकिन फाइल अबतक विभाग में ही है। वहीं डिस्पोजल को लेकर भी गेल ने इंटरेस्ट दिखाया है। उसपर भी अंतिम निर्णय नहीं हो सका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here