Jharkhand News : धर्म के लिए मरने-मारने पर उतारू, आदिवासियों के लिए सरना धर्म कोड की उठी मांग…

Jharkhand News : धर्म के लिए मरने-मारने पर उतारू, आदिवासियों के लिए सरना धर्म कोड की उठी मांग…

NEWSTODAYJ : झारखंड की पहचान जल, जंगल और ज़मीन के साथ ही आदिवासियों से जुड़ी है। आदिवासी मूर्ति पूजा के बजाय प्रकृति प्रेमी रहे हैं। हालांकि, आमतौर पर मान्यता रही है कि, आदिवासी कोई धर्म नहीं बल्कि जीवन पद्धति है। इनके रीति-रिवाज़ और मान्यताएं हिंदू धर्म के क़रीब रही हैं। पूजा-पाठ से लेकर रहन-सहन हिंदू धर्म से मिलता-जुलता रहा है। इन सबके बावजूद आदिवासियों के लिए अलग धर्म कोड की मांग की जा रही है।

यह भी पढ़े…Jharkhand News : आत्मनिर्भर गुटिबेड़ा के पहाड़ीया ग्रामिण क्योंकि सरकर के योजना गाँव के पहुंच से कोसों दुर…

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

विभिन्न राजनीतिक दल आदिवासी संगठनों की मांगों का समर्थन करते आए हैं।हालांकि, इसके पीछे वोटबैंक और राजनीति बड़ा कारण रही है। चुनावी घोषणा पत्रों में भी सरना धर्म कोड की वक़ालत की गई है। झारखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र में भी इस प्रस्ताव पर चर्चा होने की बात कही गई थी लेकिन आखिरी मौका में इसे टाल दिया गया।सरना धर्म कोड की मांग को लेकर चक्का जाम केंद्रीय सरना समिति, अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद् और आदिवासी सेंगल अभियान ने राज्यव्यापी चक्का जाम किया है। चक्का जाम के तहत रांची समेत विभिन्न ज़िलों में सड़कों को बाधित किया गया है। केंद्रीय सरना समिति के फूलचंद तिर्की ने कहा कि, सरना धर्म कोड की मांग पूरी होने तक आंदोलन जारी रहेगा।

यह भी पढ़े…Women Farmers Day : महिला किसान दिवस के मौके पर महिला किसानों को सम्मानित किया गया…

आदिवासी सेंगल अभियान के अध्यक्ष सालखन मुर्मू कहते हैं कि, भारत में विभिन्न भाषा एवं संस्कृति को फलने-फूलने की संवैधानिक व्यवस्था है लेकिन आदिवासियों को उनकी प्रकृति-पूजक संस्कृति और पद्धति को अबतक मान्यता नहीं मिली है।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : दिबयांग सर्टिफिकेट लेने में किए सैकड़ो दिबयांग पहुँचे रेड क्रॉस…

लिहाज़ा, अपनी धार्मिक पहचान और मान्यता के लिए शांतिपूर्ण तरीके से जन आंदोलन चलाया जा रहा है। आदिवासी संगठनों ने राज्य सरकारों से मांग की है कि, सरना धर्म कोड की मान्यता पर अगर कोई सकारात्मक निर्णय नहीं होता है तो आगामी 6 दिसंबर को राष्ट्रव्यापी रेल-रोड चक्का जाम किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here