Jharkhand News : बेखौफ चोरों का कहर देखने को मिला….

0
न्यूज़ सुने

Jharkhand News : बेखौफ चोरों का कहर देखने को मिला….

NeWSTODAYJ : जमशेदपुर ।आदित्यपुर थाना क्षेत्र में बीती रात एक बार फिर बेखौफ चोरों का कहर देखने को मिला , जहां पौराणिक शिव मंदिर समेत आसपास के अन्य तीन मंदिरों में चोरों ने धावा बोलते हुए मंदिर के मुख्य गेट पर लगे ताले को तोड़ दान पेटी समेत दान पेटी में रखे गए आभूषणों की चोरी की घटना को अंजाम दिया।घटनाक्रम के अनुसार पौराणिक दिन्दली शिव मंदिर से सटे शीतला मंदिर ,

यह भी पढ़े…Dhanbad News : बैंक ऑफ इंडिया ने उपायुक्त को प्रदान किया 2 लाख का चेक…

काली मंदिर और नवनिर्मित गणेश मंदिर के मुख्य गेट के ताला तोड़ चोरों ने मंदिरों में रखे गए दान पेटी के नगदी समेत आभूषण चुरा लिया , मंदिर कमेटी के पुजारी और सदस्यों द्वारा बताया गया कि प्रतिवर्ष साल में चडक पूजा के दौरान इन मंदिरों में रखे दान पेटी को खोलकर नगदी और आभूषण का लेखा-जोखा तैयार किया जाता है , और फिर उसे दान पेटी में ही रखा जाता है ,इसके तहत चोरों ने शिव मंदिर के दान पेटी से 40 हजार , शीतला मंदिर के दान पेटी से 20 हजार काली मंदिर के दान पेटी से तकरीबन 10 हजार नगद की चोरी की है,

यह भी पढ़े…Dhanbad News : 10 नवंबर से शुरू होगा ई-समाधान पोर्टल , स्मार्ट फोन या कंप्यूटर से वेबसाइट पर होगी शिकायत रजिस्टर…

इधर बुधवार सुबह मंदिर पहुंचे पुजारी समेत स्थानीय लोगों को चोरी के घटना की जानकारी मिली , जिसके बाद आदित्यपुर पुलिस को मामले से अवगत कराया गया , वही पुलिस अनुसंधान में जुटी है.सीसीटीवी में देर रात दिखे तीन संदिग्धपौराणिक दिन्दली शिव मंदिर से सटे नगर निगम द्वारा निर्मित आश्रय गृह के सीसीटीवी फुटेज में पुलिस द्वारा अनुसंधान के क्रम में पाया गया है कि रात तकरीबन 1:30 बजे तीन संदिग्ध मुंह ढक कर आते – जाते दिखे हैं ,जबकि मंदिर की ओर लगा कैमरा ख़राब पाया गया है , इधर इस घटना से स्थानीय लोगों में भी जबरदस्त आक्रोश देखा जा रहा है.6 माह पूर्व भी हुई थी चोरी दिन्दली शिव मंदिर में चोरी का यह कोई पहला मामला नहीं है ,

यह भी पढ़े…Jharkhand News : कदाचारमुक्त माहौल में संपन्न हुई वार्षिक मदरसा परीक्षा…

इससे पूर्व भी लॉकडाउन के दौरान शिव मंदिर के दान पेटी को चोरों द्वारा तोड़ नकदी चुराए जाने की घटना को अंजाम दिया गया था , इधर स्थानीय लोगों का कहना है कि नगर निगम द्वारा बनाए गए आश्रय गृह में बाहरी लोगों का आना जाना रहता है जिनके द्वारा इन घटनाओं को अंजाम दिया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here