• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Jharkhand News : हाथियों के द्वारा फसल क्षतिग्रस्त का आकलन कर मुआवजा देने की मांग की सांसद…

1 min read

Jharkhand News : हाथियों के द्वारा फसल क्षतिग्रस्त का आकलन कर मुआवजा देने की मांग की सांसद…

NEWSTODAYJ : रांची के सांसद संजय सेठ ने कहा कि सोनाहातु , के नरसिंह, लोवाडीह, और सितुमडी, राणाडीह, गांव में हाथियों के आतंक से किसान परेशान हैं। आए दिन शाम होते ही पास के जंगल से हाथियों के झुंड निकल आते हैं और किसानों के रखे धान और फसल को नष्ट कर रहे हैं। हाथियों के द्वारा किसानों के सब्जी के खेतों को भी बर्बाद किया जा रहा है। गांव के दर्जनों किसानों के खेत में लगे सब्जियों को हाथी द्वारा रौंद डाला गया है।

यह भी पढ़े…Coronavius : झारखंड राज्य में कोविड के 144 नए केस, एक्टिव मामले हुए 1, 571…

यही नहीं हाथी गांव के कच्चे मकानों एवं स्कूल में रखे मिड-डे-मील को भी निशाना बना रहे हैं आए दिन हाथियों का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है इससे किसान और ग्रामीणों में भय का माहौल है।गरीब किसान मेहनत से अपनी फसल का उपज करते हैं, ताकि अपना और अपने परिवार का भरण-पोषण कर सके। लेकिन हाथियों द्वारा फसल बर्बाद कर दिया गया है। किसानों के सामने जीवन यापन की समस्या उत्पन्न हो गई है। सांसद सेठ ने उपायुक्त से फसल का क्षतिपूर्ति का आकलन कर अविलंब मुआवजा देने तथा वन विभाग से ऐसे गांव जो हाथियों से प्रभावित है वहां ग्रामीणों के बीच बड़ा टॉर्च, पटाखा, एवं रात में अलाव जलाने की व्यवस्था करने को कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.