• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

JHARKHAND NEWS: हूल दिवस के मौके पर उपायुक्त समेत कई पदाधिकारियों ने सिदो कान्हू के मूर्ति पर माल्यार्पण कर श्रद्धा सुमन अर्पित किए…

1 min read

JHARKHAND NEWS: हूल दिवस के मौके पर उपायुक्त समेत कई पदाधिकारियों ने सिदो कान्हू के मूर्ति पर माल्यार्पण कर श्रद्धा सुमन अर्पित किए…

 

 

NEWSTODAYJ  _jharkhand news: उपायुक्त कुलदीप चौधरी व पुलिस अधीक्षक मणिलाल मंडल समेत जिला के पदाधिकारियों ने सिद्धो-कान्हू के प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया

सिदो-कान्हू, चाँद भैरव समेत हूल विद्रोह के सभी सेनानियों को नमन किया

 

वीर शहीदों की कुर्बानी को भूलाया नहीं जा सकता:- उपायुक्त

सिदो-कान्हू पार्क में हूल दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में उपायुक्त कुलदीप चौधरी व पुलिस अधीक्षक मणिलाल मंडल, उप विकास आयुक्त अनमाेल कुमार सिंह, अनुमंडल पदाधिकारी पंकज कुमार साव, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी डॉ चंदन, सदर सीओ आलोक वरण केसरी, पाकुड़ एसडीपीओ अजित कुमार विमल समेत अन्य पदाधिकारियों ने सिद्धो-कान्हू के प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया तथा सिदो-कान्हू, चाँद भैरव समेत हूल विद्रोह के सभी सेनानियों को नमन किया।

यह भी पढ़ें…Business: लॉकडाउन के बाद हुई बिजनेस में बढ़ोतरी, रांची बाजार में हुआ 250 करोड़ का कारोबार

उपायुक्त ने कहा कि 30 जून 1855 को सिद्धो-कान्हू ने अंग्रेंजो की गुलामी एवं शोषण से मुक्ति के लिए क्रांति का बिंगुल फूंका था। हूल विद्रोह जनजातीय समाज की अंग्रेजों के खिलाफ आजादी के लिए प्रथम जनक्रांति थी। सिद्धो-कान्हू के आह्वान पर हजारों संथाल आदिवासी अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह में शामिल हुये तथा अपने प्राणों की आहुति दी। हूल विद्रोह ने अंग्रेजी शासन की नींव हिला दी थी। उन्होंने कहा कि वीर शहीदों की कुर्बानी को कभी भूलाया नहीं जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें