• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Jharkhand News: छोटे से गांव से आने वाली निक्की प्रधान परिवार का नाम कर रही है ओलंपिक में रोशन……

1 min read

Jharkhand News: छोटे से गांव से आने वाली निक्की प्रधान परिवार का नाम कर रही है ओलंपिक में रोशन……

 

NEWSTODAYJ_Jharkhand News:टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी (Women’s Hockey Team) टीम जहां अपने मजबूत इरादे वाले खेल का प्रदर्शन कर रही है. वहीं, दूसरी तरफ टीम की मजबूत डिफेंडर निक्की प्रधान (Nikki Pradhan) का छोटा सा गांव अपनी किस्मत पर इठला रहा है. झारखंड की राजधानी रांची (Ranchi) से सटे खूंटी के हेसल गांव में चारों तरफ बेटियों की उपलब्धियों की चर्चा है. इस गांव से अब तक 26 खिलाड़ियों ने हॉकी के खेल में अपना करियर बनाया है. इनमें से आधी से ज्यादा संख्या बेटियों की है. हेसल गांव के कई हॉकी खिलाड़ियों ने अपनी प्रतिभा की बदौलत राज्यस्तरीय, अंतरराष्ट्रीय और ओलंपिक (Olympic) प्रतियोगिता में देश का प्रतिनिधित्व किया है.

यह भी पढ़े….

Jharkhand news:देशी रायफल के साथ नक्सली गंगा ने किया सरेंडर लंबे समय से पुलिस थी तलाश में

 

निक्की के पिता सोमा प्रधान गर्व से बताते हैं कि आज उन्हें अपनी बेटियों पर गर्व है. उनकी चार बेटियां और एक बेटा है. लेकिन एक समय ऐसा भी था जब उन्होंने बेटे की चाहत में सरकारी नौकरी छोड़ दी थी और बिहार से अपने घर खूंटी लौट आए थे. फिर उसके बाद वो एक बेटे के पिता बने. वर्तमान में सोमा प्रधान का बेटा दसवीं की पढ़ाई कर रहा है. आज वो गर्व से बताते हैं कि उनकी चारों बेटियों ने उनका मान और सम्मान बढ़ाया है. निक्की की तीनों बहनें भी हॉकी की अच्छी खिलाड़ी हैं।

 

वहीं, निक्की की मां बताती है कि बेटा नहीं होने के कारण समाज और परिवार के लोग उन पर ताना कसते थे, और परिवार में वंश नहीं होने की बात कहते थे. लेकिन आज मेरी चारों बेटियों की हॉकी के कमाल ने लोगों और समाज का मुंह बंद कर दिया है. उन्होंने कहा कि दो बार ओलंपिक खेलने वाली निक्की की उपलब्धि ने खूंटी के हेसल गांव को देश और दुनिया में एक नई पहचान दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.