• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Jharkhand news:स्पीकर द्वारा बात नही सुनने पर बीजेपी के विधायक और पूर्व मंत्री अमर बाउरी बिलखते हुए सदन से निकले बाहर

1 min read

NEWSTODAYJ_झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र के आखिरी दिन गुरुवार को चंदनकियारी से BJP के विधायक और पूर्व मंत्री अमर बाउरी बिलखते हुए बाहर निकले। उन्होंने रोते हुए स्पीकर पर गंभीर आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि दलित समुदाय से आता हूं, इसलिए स्पीकर ने मेरा कार्य स्थगन प्रस्ताव नहीं पढ़ा। उन्होंने नोटिस तक नहीं किया। सीधा खारिज कर दिया।

उन्होंने कहा कि आसन कभी इस तरह से व्यवहार नहीं करता है, जिस तरह से पक्षपाती व्यवहार मेरे साथ किया गया है। दु:खद है। ये बाबा साहब के सपनों को तोड़ने वाला है। उन्होंने कहा कि ये भावना के आंसू हैं। आंसू निकल रहे हैं तो कमजोर नहीं समझें। अमर बाउरी कमजोर नहीं है। इस लड़ाई को अंबेडकर जी के नाम पर लड़ेंगे। अपने हक अधिकार को लेंगे।

 

अमर बाउरी ने कहा कि एक विधायक के अधिकार से कार्य स्थगन को पढ़ने की मांग कर रहा था। स्पीकर से कहते रहा मेरे कार्य स्थगन को पढ़िए। नियमावली भी दिखाया। वहां कोई पक्ष-विपक्ष का भेदभाव नहीं होता है, लेकिन स्पीकर सर नहीं बोलने दिए। आखिर तक उन्होंने नहीं बोलने दिया। उन्होंने कहा कि स्पीकर बाबा साहब के संविधान का अनादर लगातार कर रहे हैं। विधानसभा को उपयोग का केंद्र बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि बुधवार को पार्टी के कार्यकर्ताओं पर हुए लाठीचार्ज के मुद्दे पर कार्य स्थगन लाया था। उन्होंने बताया कि पार्टी नेताओं को जान से मारने की कोशिश की गई थी। प्रदेश अध्यक्ष को गंभीर चोट आई है। इसकी न्यायिक जांच की मांग को लेकर कार्य स्थगन लाया था।

 

 

वहीं, रांची से BJP विधायक सीपी सिंह ने कहा कि जब हम विधानसभा अध्यक्ष थे, तब विपक्ष को ज्यादा से ज्यादा बोलने का मौका देते थे, लेकिन महागठबंधन की सरकार में हमारे दलित विधायक को बोलने नहीं दिया गया, जो सरासर गलत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.