NEWSTODAYJ_Dhanbad:जज उत्तम आनंद की मौत के मामले की जांच कर रही सीबीआई ने अपना जांच का दायरा बढ़ाते हुए कोयलांचल के चर्चित हत्याकांडों की कुंडली खंगालनी शुरू कर दी है l इसी क्रम में सीबीआई की टीम ने धनबाद के सरायढेला थाना पहुंचकर नीरज सिंह व रंजय सिंह हत्याकांड की एफआईआर और चार्जशीट की कॉपी ली हैl शायद,सीबीआई जज की मौत मामले में हत्याकांडों की कड़ी दर कड़ी जोड़ कर देखना चाहती है l

यह भी पढ़े…Jharkhand news:पत्रकार बैजनाथ महतो पर जानलेवा हमला करने वाले मुख्य आरोपी बेंगा को पुलिस ने किया गिरफ्तार

इनाम की घोषणा के बावजूद सुराग देने वाले सामने नहीं आए 

 

जज की मौत मामले में सीबीआई लगातार सक्रियता बनाए हुए हैं। पकड़े गए टेंपो चालक लखन वर्मा और राहुल वर्मा का नारको टेस्ट, पॉलीग्राफी टेस्ट समेत अन्य जांच कराने के बाद कतरास के कुछ लोगों को पकड़ कर कई घंटों तक पूछताछ की। उसके बाद बुधवार को सरायढेला थाना जाकर धनबाद के सबसे ज्यादा चर्चित हत्याकांड की एफआईआर और चार्जशीट प्राप्त की। वैसे, जज की मौत मामले में सुराग देने वाले को पहले सीबीआई ने पांच लाख का इनाम देने की घोषणा की थी। बाद में इसे बढ़ाकर दस लाख रुपए कर दिया गया। फिर भी सीबीआई को सुराग देने वाले कोई सामने नहीं आए ।शायद यही वजह है कि सीबीआई जांच के क्रम में चर्चित हत्याकांडों को भी खंगालना चाहती है।

 

अमन सिंह की भी क्राइम फाइल खंगालेगी सीबीआई

 

इसी क्रम में नीरज और रंजय हत्याकांड के कागजात लिए गए हैं, सीबीआई नीरज हत्याकांड के आरोपी और यूपी के डॉन अमन सिंह से भी पूछताछ करेगी। 29 जनवरी 2017 को सरायढेला थाना क्षेत्र में झरिया के पूर्व विधायक संजीव सिंह के खासमखास रंजय सिंह की हत्या कर दी गई थी। इसके 52 दिन बाद 21 मार्च 2017 को पूर्व डिप्टी मेयर सह कांग्रेस नेता नीरज सिंह सहित 4 लोगों की हत्या सरायढेला थाना क्षेत्र के स्टीलगेट में ही गोली मारकर कर दी गई। इस हत्याकांड में अमन सिंह ने अपने गुर्गों के साथ मिल कर नीरज सिंह और उनके सहयोगियों पर ए के 47 से अंधाधुंध फायरिंग की थी । नीरज सिंह हत्याकांड में ही भाजपा के पूर्व झरिया विधायक संजीव सिंह पिछले साढ़े तीन वर्ष से जेल में बंद हैं। अन्य आरोपियों को भी अभी बेल का इंतजार है l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *