Indian Railways : डीसी रेल लाइन पर नहीं दौड़ेगी ट्रेन, हाइकोर्ट ने याचिका को खारिज किया…

0
न्यूज़ सुने

Indian Railways : डीसी रेल लाइन पर नहीं दौड़ेगी ट्रेन, हाइकोर्ट ने याचिका को खारिज किया…

NEWSTODAYJ : धनबाद-कतरासगढ़-चंद्रपुरा रेल लाइन पर फिर से ट्रेनें नहीं चलेंगी। झारखंड हाइकोर्ट ने इस संबंध में दायर जनहित याचिका को आज खारिज कर दिया।हाइकोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन एवं जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ ने रेलवे के जवाब को सही माना और याचिका खारिज कर दी।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : कोरोना जांच शिविर आयोजित ,लोगो की संख्या में भारी कमी…

रेलवे ने हाइकोर्ट को बताया है कि रेलवे ट्रैक के नीचे भूमिगत खदानों में आग लगी है।इसलिए धनबाद-कतरास-चंद्रपुरा रेल लाइन को खतरा है।ट्रेनें चलाने से कभी भी दुर्घटना हो सकती है। महानिदेशक (खान व सुरक्षा) ने इस संबंध में अपनी रिपोर्ट दे दी है।ऐसी स्थिति में रेलवे परिचालन जारी नहीं रखा जा सकता है।इसी को आधार मानकर कोर्ट ने याचिका को खारिज कर दिया।ज्ञात हो कि इस रूट पर 15 जून, 2017 से रेल परिचालन को पूरी तरह से बंद कर दिया गया था।इस रूट पर चलने वाली 26 जोड़ी ट्रेनों को या तो बंद कर दिया गया या उसे गोमो होकर डायवर्ट कर दिया गया।

यह भी पढ़े…Allegations of irregularities : डेढ़ दो सौ वर्षों पुरानी होरलाडीह कब्रिस्तान , पूर्व विधायक व मेयर विकास की कार्य पर अनिमिता बरतने का आरोप…

सीसीआरएस ने 34 किलोमीटर लंबे धनबाद-चंद्रपुरा रेल रूट पर परिचालन रेलवे की जोखिम पर शुरू करने पर सहमति जतायी थी।उन्होंने इस रूट पर पैसेंजर ट्रेन के लिए 65 किमी प्रति घंटे की अधिकतम रफ्तार तय की थी।सीसीआरएस ने मालगाड़ियों के लिए अधिकतम रफ्तार 50 किमी प्रति घंटा तय की थी।इसके साथ धनबाद रेल मंडल से इस लाइन पर निगरानी रखने के लिए अलग से एक विशेषज्ञ रखने को कहा था।करीब 20 महीने के इंतजार के बाद रेलवे बोर्ड ने धनबाद-चंद्रपुरा (डीसी) रेल लाइन पर फिर से रेल परिचालन शुरू की इजाजत मिलने के बाद इलाके के लोगों में खुशी की लहर दौड़ गयी थी।

यह भी पढ़े…Police walk : पुलिस के द्वारा चलाया गया बाज़ार क्षेत्र में पैदल गस्ती अभियान सुरक्षा का लिया गया जायज़ा…

इस संबंध में रेलवेबोर्ड नेके आदेश भी जारी करनेसेपहलेकर दिया। इससे पहले चीफ कमिश्नर फॉर रेल सेफ्टी(सीसीआरएस) शैलेश कुमार पाठक ने 31 जनवरी को इस रूट पर परिचालन शुरू करने की एनओसी दी थी।इसके बाद पूर्व मध्य रेलवे ने रेलवे बोर्ड से इस रूट को रेल ट्रैफिक के लिए खोलने की इजाजत मांगी।दिल्ली में बोर्ड सेफ्टी कमेटी की बैठक में इसे ट्रैफिक के लिए खोलने का निर्णय लिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here