Illegal stone mining : अवैध खनन करने वाले 250 कारोबारियों पर 650 करोड़ का जुर्माना, नोटिस जारी…

Illegal stone mining : अवैध खनन करने वाले 250 कारोबारियों पर 650 करोड़ का जुर्माना, नोटिस जारी…

NEWSTODAYJ : दुमका /पाकुड़।पत्थर कारोबारियों द्वारा पर्यावरण को नुकसान पहुंचा कर अवैध पत्थर खनन करने के मामले पर राष्ट्रीय हरित अधिकरण ने कड़ा रूख अख्तियार किया है।अवैध पत्थर खनन के खिलाफ राष्ट्रीय हरित अधिकरण के पूर्व आदेश के तहत झारखंड के खनन विभाग ने पर्यावरणीय नियमों के उल्लंघन के आरोप में पाकुड़ के ढाई सौ पत्थर व्यवसाइयों के खिलाफ लगभग 650 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।

यह भी पढ़े…Increase in petrol and diesel : डीजल और पेट्रोल की कीमतों में आज बढ़ोतरी…

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

एनजीटी के आदेश के तहत जिला खनन विभाग ने कार्रवाई की है। जिला खनन पदाधिकारी उत्तम कुमार विश्वास ने बताया कि उन्होंने जिले के उन कारोबारियों को नोटिस जारी करते हुए जुर्मानें की राशि का भुगतान एक पखवाड़े (15 दिनों) के अंदर करने का आदेश दिया है जिन्होंने एनजीटी के नियमों का उल्लंघन कर पत्थर खनन किया है।उन्होंने बताया कि पाकुड़ जिले में ही लगभग ढाई सौ पत्थर खनन करने वाले व्यवसाइयों को नोटिस दिए गए हैं और सभी को मिलाकर लगभग साढ़े छह सौ करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है।अवैध पत्थर खनन करने वाले से अर्थ दंड की वसूली बता दें कि हाल ही में दुमका की उपायुक्त राजेश्वरी बी ने खनन विभाग और

यह भी पढ़े…Dhanbad News : बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता जावेद पठान अपने पैतृक आवास झरिया पहुँचे , कोयलांचल वासियों में खुशी की लहर…

पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण पर्षद के अधिकारियों के साथ बैठक कर एनजीटी द्वारा पारित आदेश पर कार्रवाई करते हुए सभी चिन्हित पत्थर कारोबारियों से दंड की वसूली के लिए डिमांड नोटिस भेजने का निर्देश दिया था।एनजीटी ने दुमका जिला में अवैध पत्थर खनन करने वाले 217 चिन्हित खनन कारोबारियों से करीब 433 करोड़ रुपए और पाकुड़ जिला में चिन्हित 250 खनन कारोबारियों से करीब 650 करोड़ रुपए अर्थ दंड की वसूली करने से संबंधित आदेश पारित किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here