Freedom from triple talaq : मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के रूप में एक अगस्त को इतिहास में दर्ज हो गया ,अगस्त माह देश के लिए महत्वपूर्ण…

0
न्यूज़ सुने

Freedom from triple talaq : मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के रूप में एक अगस्त को इतिहास में दर्ज हो गया ,अगस्त माह देश के लिए महत्वपूर्ण…

  • तीन तलाक की कुप्रथा से मुक्त करने के मामले में भारत के इतिहास में मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के रूप में दर्ज हो गया है।
  • देश में मुस्लिम महिलाओं का उत्पीड़न करने वाली यह कुप्रथा वोट बैंक के सौदागरों के सियासी संरक्षण में फलती-फूलती रही।

NEWSTODAYJ : (ब्यूरो रिपोर्ट) अगस्त का महीना इतिहास में महत्वपूर्ण घटनाओं का साक्षी रहा है। आठ अगस्त भारत छोड़ो आंदोलन, 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस, 20 अगस्त सद्भावना दिवस और पांच अगस्त अनुच्छेद 370 खत्म होने के लिए जाने जाते हैं। अब एक अगस्त भी मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक की कुप्रथा से मुक्त करने के मामले में भारत के इतिहास में मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के रूप में दर्ज हो गया है।

यह भी पढ़े…Inaugaration : मॉरीशस के नए सुप्रीम कोर्ट भवन का पीएम मोदी और प्रवींद्र जगन्नाथ आज करेंगे उद्घाटन…

तीन तलाक न संवैधानिक तौर से ठीक था, न इस्लाम के नुक्तेनजर से जायज था।

यह भी पढ़े…Smuggling : पण्डरपाला रहमतगंज में पुलिस की दबिश,सात गोवंश किया गया मुक्त…

तीन तलाक या तलाके बिद्दत न संवैधानिक तौर से ठीक था, न इस्लाम के नुक्तेनजर से जायज था, फिर भी हमारे देश में मुस्लिम महिलाओं का उत्पीड़न करने वाली यह कुप्रथा वोट बैंक के सौदागरों के सियासी संरक्षण में फलती-फूलती रही। 18 मई, 2017 को सुप्रीम कोर्ट द्वारा तीन तलाक को असंवैधानिक करार दिए।

यह भी पढ़े…Coronavirus : झारखंड राज्य में कोरोना के 226 नये मामले, मृतकों की संख्या 100 के करीब , अब तक एक्टिव केस 5,734…

जाने के बाद मोदी सरकार ने एक अगस्त, 2019 को संसद में कांग्रेस, वाम दलों, सपा, बसपा, तृणमूल कांग्रेस सहित तमाम कथित सेक्युलर दलों के विरोध के बावजूद तीन तलाक कुप्रथा को खत्म करने के विधेयक को कानूनी रूप दिया। इसी के साथ देश की मुस्लिम महिलाओं के लिए यह दिन संवैधानिक, मौलिक, लोकतांत्रिक एवं समानता के अधिकारों का दिन बन गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here