Former president dies : पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का 84 साल की उम्र में निधन , प्रधानमंत्री ने की ट्वीट…

1 min read

Former president dies : पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का 84 साल की उम्र में निधन , प्रधानमंत्री ने की ट्वीट…

NEWSTODAYJ (एजेंसी)नई दिल्ली : पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का 84 साल की उम्र में निधन हो गया है। सोमवार शाम को 84 साल की उम्र में प्रणब मुखर्जी ने अंतिम सांस ली। वो पिछले कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे। बीते दिनों प्रणब मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, उनकी सर्जरी भी हुई थी।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : स्पेशल टेस्टिंग ड्राइव कार्यक्रम के. तहत कोविड 19 की हुई जांच ,उड़ी सोशल डिस्टेंस की धज्जियां…


प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी ने ट्वीट कर पिता के निधन की जानकारी दी। प्रणब मुखर्जी वर्ष 2012 से 2017 तक देश के 13वें राष्ट्रपति रहे। वहीं आज हम पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के उन बड़े फैसलों की बात करेंगे जिनकों आज भी याद किया जाएगा।
प्रणब मुखर्जी ने अपने कार्यकाल में बतौर राष्ट्रपति तीन बड़े आतंकी अजमल, अफजल और याकूब को फांसी दिलाने में अहम रोल निभाया और जल्द से जल्द मामले का निपटारा किया।

यह भी पढ़े…Crime : सिर कटे शव मामले की जांच जारी, मंगाया जा रहा डॉग स्क्वायड…

प्रणब मुखर्जी ने अपने कार्यकाल में मुंबई के 26/11 हमले के दोषी अजमल कसाब और संसद भवन पर हमले के दोषी अफजल गुरु और 1993 मुंबई बम धमाके के दोषी याकूब मेनन की फांसी की सजा पर फौरन मुहर लगाई जिसको आज भी याद किया जाता है। कसाब को 2012, अफजल गुरु को 2013 और याकूब मेनन को 2015 में फांसी हुई थी।अपने कार्यकाल के दौरान प्रणब मुखर्जी के पास पूरे कार्यकाल में करीब 37 क्षमायाचिका आए, जिसमें उन्होंने ज्यादातर में कोर्ट की सजा को बरकरार रखा। कार्यकाल की समाप्ति के दौरान प्रणब मुखर्जी ने रेप के दो मामलों में दोषियों को क्षमा देने से मना कर दिया।

यह भी पढ़े…Plead for justice : वासेपुर के रहने वाले जावेद की हत्या में परिजनों ने लगाया मुख्यमंत्री व डीजीपी से न्याय की गुहार…

एक मामला इंदौर का था और दूसरा पुणे का। प्रणब मुखर्जी अपने फैसले के दौरान चार लोगों को जीवनदान दिया था जिसको आज भी साहसी फैसला मानकर याद किया जाता है। ये बिहार में 1992 में अगड़ी जाति के 34 लोगों की हत्या के मामले में दोषी थे। राष्ट्रपति रहते हुए उन्होंने 2017 नववर्ष पर कृष्णा मोची, नन्हे लाल मोची, वीर कुंवर पासवान और धर्मेन्द्र सिंह उर्फ धारू सिंह की फांसी की सजा को आजीवन कारावास की सजा बदल दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Newstoday Jharkhand | Developed By by Spydiweb.