Forced labor : काम के तलाश में पलायन करने को मजबूर, दो लाख में बस रिजर्व कर चेन्नई जा रहे मजदूर…

1 min read

Forced labor : काम के तलाश में पलायन करने को मजबूर, दो लाख में बस रिजर्व कर चेन्नई जा रहे मजदूर…

NEWSTODAYJ : जामताड़ा जिले में प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने में सरकार विफल साबित हो रही है। जिस कारण लॉकडाउन में घर वापस लौटे प्रवासी मजदूर एक बार फिर पलायन करने लगे हैं। मामला नारायणपुर प्रखंड क्षेत्र का है। जहां 40 मजदूर दो लाख रुपैया बस किराया देकर एक बार फिर चेन्नई रोजगार की तलाश में पलायन किए हैं।मजदूरों का कहना है कि 8 माह से घर में है कोई रोजगार नहीं मिल रहा है। भूखे मरने की नौबत आ गई है इसलिए दो लाख रुपैया किराया देकर चेन्नई जा रहे हैं।

यह भी पढ़े…Protest : पीवीयूएनएल के विस्थापित ग्रामीणों ने आत्मदाह की दी धमकी, 6 दिनों से जारी है आंदोलन…

कई मजदूरों ने बताया कि गांव के लोगों से कर्ज लेकर किराया जुटाए हैं ताकि वहां कमाने के बाद अपने घर के लोगों के साथ -साथ इन लोगों को पैसा भेज सकें। आपको बता दें कि लॉकडाउन के समय जामताड़ा जिले के लगभग 10000 मजदूर विभिन्न माध्यमों से अपने घर वापस लौटे थे। जिन्हें स्थानीय स्तर पर है रोजगार देने का दवा सरकार के प्रतिनिधि तथा प्रशासन द्वारा किया गया था। परंतु अधिकांश को रोजगार नहीं मिला। जिसकी वजह से प्रवासी मजदूरों को मजबूरन दूसरे राज्य मैं रोजगार के तलाश में जाने को विवश हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Newstoday Jharkhand | Developed By by Spydiweb.