• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Festival:दीपोत्सव पर मां लक्ष्मी को करे प्रसन्न,जाने आसान विधि ,विधान एवम मान्यता

1 min read

NEWSTODAYJ_रांचीः देश उत्सवी माहौल में डूबा हुआ है. इस पूरे सप्ताह एक के बाद एक त्योहार मनाए जाने हैं. तीन नवंबर को नरक चतुर्दशी (narak chaturdashi 2021) मनाई जाएगी, जिसे कई जगह छोटी दिवाली भी कहा जाता है. फिर अगले दिन 4 नवंबर को दिवाली(Deepawali Puja 2021 ) मनाई जाएगी. फिर भैया दूज मनाई जाएगी. इसी महीने छठ भी मनाई जाएगी. एक के बाद एक त्योहारों के कारण ही सनातन धर्म (हिंदू धर्म) को मानने वालों के लिए यह कार्तिक महीना खास है. हर त्योहार किसी ने किसी धार्मिक परंपरा, आस्था और पूजा से जुड़ा हुआ है, जिसमें पूजा-अर्चना कर भक्त सबके कल्याण की कामना करते हैं.

यह भी पढ़े….Festival:जानिए धनतेरस को क्यों माना जाता है शुभ,कौन सा मुहूर्त होता है अच्छा

दीपावली से एक दिन पहले 3 नवंबर को नरक चतुर्दशी मनाई जाती है. इस दिन सरसों और तिल का दिया जलाकर मृत्यु के देवता यम की पूजा करते हैं. वहीं भक्त शरीर में सरसों का तेल लगाकर स्नान करते हैं ताकि यमराज प्रसन्न हों और अकाल मृत्यु न हो. पंडित जितेंद्र महाराज ने बताया कि 3 नवंबर 2021 दिन बुधवार को 9 बजकर 02 मिनट तक त्रयोदशी तिथि रहेगी. इसके बाद चतुर्दशी प्रारंभ हो जाएगी. इस दिन प्रदोष काल में दीप दान करना शुभ माना जाता है.

 

ऐसे करें यम पूजा.

विधि विधान के अनुसार दीपावली से एक दिन पूर्व पुराने दीपक में सरसों का तेल और पांच अन्न के दाने डालकर इसे घर के सामने जलाकर रखा जाता है. इसे यम दीपक भी कहते हैं. मान्यता के अनुसार यम की पूजा करने से लोगों की अकाल मृत्यु नहीं होती है.

इस दिन इनकी भी होती है पूजा

पुरोहितों के मुताबिक, इस दिन काली देवी की भी पूजा की जाती है. यह पूजा नरक चतुर्दशी के दिन आधी रात में की जाती है. माना जाता है कि इस दिन मां काली की पूजा से जीवन के सभी दुखों का अंत हो जाता है. इस दिन भगवान श्रीकृष्ण की भी पूजा की जाती है क्योंकि इसी दिन नरकासुर राक्षस का वध भगवान श्री कृष्ण द्वारा किया गया था. भगवान भोलेनाथ और बजरंगबली की भी पूजा भी इस दिन की जाती है ताकि जीवन में आने वाले सभी संकट टल सके. मान्यता के अनुसार यदि नरक चतुर्दशी की पूजा विधि-विधान से की जाए तो व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिलती है और उसे स्वर्ग प्राप्त होता है.ये भी पढ़ें-धन त्रयोदशी पर्व-2021: धन-प्राप्ति अनुष्ठानों के लिए सर्वोत्तम मानी जाती है दीपावलीदीपावली पर दिनभर शुभ मुहूर्तपंडित जितेंद्र का कहना है कि नरक चतुर्दशी के बाद दीपावली मनाई जाती है जिस दिन लोग भगवान राम के वापस आने की खुशियां मनाते हैं. पंडित जितेंद्र महाराज ने बताया कि गुरुवार को दीपावली का मुहूर्त बहुत शुभ है. दीपावली के दिन दिनभर लोग पूजा कर सकते हैं. इस दिन पूजा भगवती लक्ष्मी की की जाती है. दीपावली के दिन यानी कार्तिक अमावस्या को माता लक्ष्मी की पूजा करने से पहले गणेश भगवान की पूजा आवश्यक है.

इस दिन गाय की पूजा

 

दीपावली के बाद सनातन धर्म के अनुसार गाय की पूजा की जाती है. इस दिन लोग गाय को अन्नदान कर शुभ कार्य की शुरुआत करते हैं. माना जाता है कि गाय की पूजा के साथ यमद्वितीया की पूजा समाप्त होती है उसके बाद ही कोई शुभ कार्य किया जाता है.

मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए इस मंत्र का करें जाप

 

ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलाये प्रसीद प्रसीद

 

ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः

Leave a Reply

Your email address will not be published.