• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

EXPLORER : वैज्ञानिकों ने COVID 19 के अणु की संरचना का पता लगाया, वैक्सीन बनाने का रास्ता हुआ साफ पढ़े पूरी खबर…

1 min read

EXPLORER : वैज्ञानिकों ने COVID 19 के अणु की संरचना का पता लगाया, वैक्सीन बनाने का रास्ता हुआ साफ पढ़े पूरी खबर…

  • इसी बीच भारतीय मूल के वैज्ञानिकों सहित अन्य वैज्ञानिकों ने यह पता कर लिया है कि कोरोना वायरस के अनु संरचना कैसी है।
  • वैज्ञानिकों को मिली यह अहम जानकारी Covid-19 के खिलाफ वैक्सीन बनाने में मददगार साबित होगी।

NEWSTODAYJ : नई दिल्ली । दुनियाभर में कोरोना महामारी से निजात पाने के लिए वैज्ञानिकों का परीक्षण लगातार जारी है। इसी बीच भारतीय मूल के वैज्ञानिकों सहित अन्य वैज्ञानिकों ने यह पता कर लिया है कि कोरोना वायरस के अनु संरचना कैसी है और कोरोना वायरस के अणु मेजबान कोशिकाओं में कैसे छिपते हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी पता कर लिया है कि वायरस अपना आनुवांशिक अनुक्रम कैसे तैयार करते हैं।

यह भी पढ़े…Twitte Moanj Tiwari : मनोज तिवारी ने ट्वीट कर सुशांत सिंह राजपूत केस दोषियों पर FIR दर्ज करने की मांग महाराष्ट्र सरकार से की…

माना जा रहा है कि वैज्ञानिकों को मिली यह अहम जानकारी Covid-19 के खिलाफ वैक्सीन बनाने में मददगार साबित होगी। नेचर कम्युनिकेशंस जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, NSP10 मॉलीक्यूल मेजबान कोशिका के एमआरएनए (MRNA) की नकल करने के लिए वायरल mRNAs में बदलाव करता है। अमेरिका के सैन एंटोनियो में द यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास हेल्थ साइंस सेंटर के शोधकर्ताओं ने कहा कि यह बदलाव NSP10 विषाणुओं को मेजबान कोशिका की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया से बचाता है।

यह भी पढ़े…FLESH TRADE : दो बांग्‍लादेशी कॉल गर्ल, एस्कॉर्ट सर्विस के नाम पर देह व्‍यापार, ड्रग्‍स व नशे के इंजेक्‍शन का भी इंतजाम आपत्तिजनक हालत में पुलिस ने किया गिरफ्तार…

यह एक छद्मावरण है। यूटी हेल्थ सेन एंटोनियो से अध्ययन के सह-लेखक एवं भारतीय मूल के वैज्ञानिक योगेश गुप्ता के अनुसार, इस बदलाव के कारण वायरस कोशिकाओं को मूर्ख बनाता है। नतीजतन विषाणुजनित संदेशवाहक आरएनए को इस अब कोशिका का हिस्सा माना जाता है, न कि बाहरी।

यह भी पढ़े…CONVERSATION : रघुवर दास vs सरयू राय , पोल खोल , किताब मैनहर्ट घोटाले को लेकर , जनिए पूरा मामला…

नई औषधि को तैयार करने में मदद शोधकर्ताओं के अनुसार, NSP 16 की थ्रीडी संरचना को समझने से कोरोना वायरस SARS-CoV-2 और अन्य उभर रहे कोरोना वायरस संक्रमणों के खिलाफ नई वैक्सीन को विकसित करने का रास्ता खोल सकता है। उन्होंने कहा कि यह दवाएं इस तरह तैयार की जा सकती हैं, एनएसपी16 को बदलाव करने से रोकें जिससे मेजबान कोशिका का प्रतिरोधी तंत्र बाहरी विषाणु की पहचान कर उन पर आक्रमण करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें