EMI’s Moratorium : मोरेटोरियम की अवधि एक साल बढ़ाने के मामले पर सुनवाई 8 सितम्बर को होगी सुनवाई…

EMI’s Moratorium : मोरेटोरियम की अवधि एक साल बढ़ाने के मामले पर सुनवाई 8 सितम्बर को होगी सुनवाई…

NEWSTODAYJ नई दिल्ली : हाईकोर्ट ने वकीलों के लोन की ईएमआई के मोरेटोरियम की अवधि एक साल के लिए और बढ़ाने और उसका ब्याज माफ करने की मांग करनेवाली याचिका पर गुरुवार को सुनवाई टाल दी है। चीफ जस्टिस डीएन पटेल की अध्यक्षता वाली बेंच ने इस मामले पर 8 सितम्बर को दूसरी बेंच के समक्ष सुनवाई के लिए लिस्ट करने का आदेश दिया।यह याचिका वकील सुनील कुमार तिवारी ने दायर की है।

यह भी पढ़े…PM Housing Scheme : प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत लंबित आवासों का निरीक्षण , आवासों को अविलंब करें पूरा – बीडीओ…

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

याचिकाकर्ता की ओर से वकील मुकेश कुमार सिंह ने कहा कि दिल्ली बार काउंसिल ने अपने यहां पंजीकृत वकीलों को एक बार पांच हजार रुपये की सहायता दी थी लेकिन वो जीवन यापन के लिए पर्याप्त नहीं था। याचिका में कहा गया है कि कोरोना की वजह से केंद्र सरकार ने पिछले मार्च महीने से लॉकडाउन घोषित किया था। उसके बाद से कोर्ट के लगातार बंद होने की वजह से वकीलों को काफी आर्थिक नुकसान हुआ है। ऐसी स्थिति में वकीलों को सहायता देने की मांग की गई है।याचिका में कहा गया है।

यह भी पढ़े…Politics News : नोटबंदी हिंदुस्तान के गरीब, किसान, मजदूर और छोटे दुकानदार पर आक्रमण था – रामेश्वर उरांव…

कि अधिकांश वकील मध्यम वर्ग या निम्न मध्यम वर्ग से आते हैं। उन्हें अपने परिवार का भरण-पोषण करने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। कई वकीलों को अपने लोन, क्रेडिट कार्ड और अपने मकान के लिए किराये के रुप में बड़ी रकम खर्च करनी पड़ती है। वकील अपने बच्चों की स्कूल की फीस तक समय से नहीं दे पा रहे हैं।याचिका में कहा गया है कि केंद्र सरकार उद्योगों को काफी कम दर पर लोन दे रही है। उनके लोन पर मोरेटोरियम की अवधि 12 महीने के लिए बढ़ा दी गई है।

यह भी पढ़े…Accused arrested : पुलिस को मिली बड़ी सफलता , पुलिस ने चोरी की स्कूटी व अवैध देशी पिस्टल के साथ तीन आरोपितों को धर दबोचा…

सरकार मजदूरों को भी भोजन, आश्रय और दूसरी रियायतें देकर मदद कर रही है लेकिन वकीलों और निजी क्षेत्र में काम करनेवाले लोगों को कोई मदद नहीं मिल रही है। याचिकाकर्ता ने खुद होम लोन, कार लोन, पर्सनल लोन और क्रेडिट कार्ड ले रखा है। लेकिन आज वह इन सबकी ईएमआई देने की स्थिति में नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here