• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Dhanbad News : झरिया कोयलांचल और इसके आसपास क्षेत्रों में आठ दिन से जलापूर्ति बाधित…

1 min read

Dhanbad News : झरिया कोयलांचल और इसके आसपास क्षेत्रों में आठ दिन से जलापूर्ति बाधित…

NEWSTODAYJ : धनबाद। झरिया जल ही जीवन है। जल के बिना जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती है। लेकिन झरिया कोयलांचल और इसके आसपास क्षेत्रों में आठ दिन से जलापूर्ति बाधित है। पानी के लिए छह लाख से अधिक लोगों में हाहाकार मचा है। लेकिन जिला प्रशासन, झमाडा प्रबंधन और जनप्रतिनिधि गंभीर नहीं हैं। इससे झरिया में अंधेर नगरी चौपट राजा वाली कहावत चरितार्थ हो रही है। मालूम हो कि जामाडोबा जल संयंत्र में दो वाटर फिल्टर प्लांट हैं। दामोदर नदी से यहां के 12 एमजीडी प्लांट से झरिया एक और दो जल मीनार के माध्यम से झरिया शहर और कोलियरी क्षेत्र में लाखों लोगों को जलापूर्ति की जाती है।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : बिरसा मुंडा पार्क को बेहतर बनाने के लिए उपायुक्त ने की अधिकारियों के साथ बैठक…

नौ एमजीडी प्लांट से पुटकी क्षेत्र में हर दिन जलापूर्ति की जाती है। छह लाख से अधिक लोग संयंत्र की जलापूर्ति पर निर्भर हैं। आश्चर्य की बात है कि एक सप्ताह से झरिया कोयलांचल में जलापूर्ति बाधित है। दामोदर नदी में शैवाल, जलकुंभी के आने से कोयलांचल में जलापूर्ति नहीं हो पा रही है। लाखों लोगों में पानी के लिए हाहाकार मचा हुआ है। लोग पानी की तलाश में इधर-उधर भटक रहे हैं। लेकिन जिला प्रशासन, झमाडा प्रबंधन और जनप्रतिनिधि चितित नहीं हैं। कोयलांचल के लाखों लोग आठ दिन से ठंठ में भी भीषण जल संकट का सामना कर रहे हैं। प्रशासन, झमाडा व जनप्रतिनिधियों की लापरवाही से लोगों में काफी आक्रोश है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.