Dhanbad News : पहाड़ियों के गर्भ में होता एक विशाल खेला चंडी मां की पूजा के साथ लगता है ग्रामीण मेला…

1 min read

Dhanbad News : पहाड़ियों के गर्भ में होता एक विशाल खेला चंडी मां की पूजा के साथ लगता है ग्रामीण मेला…

NEWSTODAYJ : धनबाद जिले के निरसा में पहाड़ियों के गर्भ में होता एक विशाल खेला चंडी मां की पूजा के साथ लगता है ग्रामीण मेला क्षेत्र के तमाम ग्रामीणों और आसपास के इलाकों के लिए एक बहुत बड़ा आयोजन बनकर उभर रहा है यह विशालकाय पूजा और मेला निरसा कलियासोल प्रखंड अंतर्गत पिंडरा हाट पंचायत स्थित लखीमपुर गांव की पहाड़ियों के बीच स्थित मां खेला चंडी की वर्षों पुरानी प्राचीन मंदिर में लोगों की आस्था इस प्रकार जुड़ी रही कि वर्ष में सिर्फ 1 दिन मकर संक्रांति के दूसरे दिन माघ माष के पहले दिन यहां हजारों की संख्या में कई दूरदराज इलाकों से भक्तजन इन पहाड़ी रास्तों से होकर पहाड़ियों के बीच स्थित इस मंदिर में मत्था टेकने पहुंचते हैं।

यह भी पढ़े…Corona Vaccination : विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत , लाभुकों को टीकाकरण केंद्र में कोरोना का टीका लगाया जाएगा…


आस्था इतनी बड़ी है कि भले ही मंदिर आबादी से कहीं दूर बसा है फिर भी भक्त जनों का ताता लगातार रहता है पूजा करने पहुंचे भक्तों ने बताया कि यह प्राचीन मंदिर वर्षों पुराना है जहां साल में सिर्फ 1 दिन माघ मास के पहले दिन ही पूजा की जाती है कई भक्तों मन्नते मांगते हैं और जिनकी मन्नत पूरी होती है वह मंदिर के ठीक पास में स्थित तालाब में स्नान करके भीगे कपड़ों में ही मंदिर में आकर पूजा अर्चना करते हैं कई ऐसे भी भक्त हैं जिनकी मनोकामना पूरा होने के बाद वह दंडी देते हुए लेटते हुए तालाब से मंदिर तक पहुंच कर मां की दर्शन कर पूजा करते हैं हालांकि हर वर्ष यह विशालकाय मेला भी लगता है पर इस वर्ष कोरोना काल को देखते हुए सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के चलते भीड़ की संख्या हालाकी कम ही रही फिर भी लोगों का ताता लगातार बना रहा और मेले में खरीदारी करते भी भक्त देखे गए लोगों ने बताया कि इस पूजा की शुरुआत वर्षो पूर्व हुई थी और यहां मान्यता है कि यह जो भी सच्चे दिल से मनोकामना मांगता है वह पूरा होता है जिसके बाद लोग तालाब में स्नान कर दंडवत होकर मंदिर तक पहुंचकर पूजा अर्चना करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Newstoday Jharkhand | Developed By by Spydiweb.