• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Dhanbad News : संयुक्त मोर्चा रयत विस्थापित संघर्ष मोर्चा के बैनर तले धनबाद जिला परिषद मैदान धनबाद से रणधीर वर्मा चौक तक न्याय मार्च निकाला गया

1 min read

NEWSTODAYJ : सिजुआ क्षेत्र से बांसजोरा एक्स पेच में दुर्घटना से मृत धीरज कुमार नोनिया को इंसाफ दिलाने के लिए डीजीएमएस एवं स्थानीय प्रशासन की बीसीसीएल एवं साकार मास ज्वाइंट वेंचर की बचाने के सडयंत्र के खिलाफ आज का कार्यक्रम किया गया दिनांक 4/7/ 2022 को डीजीएमएस के मुख्य द्वार पर एक दिवसीय धरना दिया जाएगा इस कार्यक्रम के संबोधन में मंटू महतो ने कहा कि सिस्टम संवेदनहीन हो गया है और एक नौजवान लड़का सिस्टम की लापरवाही के कारण माइंस के अंदर मृत्यु हो जाता है इसका सैकड़ों प्रत्यक्ष गवाह है घटना दिन में होती है दर्जनों सबूत है उसके बाद भी बीसीसीएल और कंपनी डेको साकार मास डीजीएमएस मिलकर उस घटना को झूठलाने में लगी हुई है।

 

 

यह भी पढ़े…..Jharkhand News : श्रवणी मेला आते नकली पेड़े बनाने वाले मिलावट खोर हुए सक्रिय

 

 

घटना का सारा सच्चाई का खुलासा हो चुका है फिर भी अभी तक गाड़ी को जप्त नहीं किया गया जिस Volvo से दबकर धीरज की जान गई अब हालत यह है कि इस लोकतंत्र में एक आम आदमी की जान की कीमत सिस्टम के आगे कुछ भी नहीं आम गरीब आदमी का विश्वास अब उठता जा रहा है डीजीएमएस पूरे गवाहों का बयान भी अभी तक कलमबढ़ नहीं कर पाया स्थानीय पुलिस एक एफ आई आर दर्ज कर अपना जिम्मेदारी समाप्त कर ली है डीजीएमएस कॉलम पूरा कर रफा-दफा करने में लगे हुए हैं और आगे या कहा कि घटना को जो अंतिम साक्ष्य जिसके द्वारा और जिस मोबाइल से फोटो शूट किया गया उन गवाहों और मोबाइल का सारा विवरण शपथ पत्र के माध्यम से दिया गया है यहां तक कि उस समय के फोटो शूट के समय स्थान का लोकेशन मोबाइल द्वारा स्क्रीन शॉट के छाया फोटो एवं इस फोटो को किस मोबाइल से एवं किसके द्वारा बनाया गया उसका भी एफिडेविट शपथ पत्र बना कर दिया गया है कैसे-कैसे किसका मोबाइल से वायरल हुआ वह भी सच के रूप में दिया गया फिर भी इस घटना को झूठ लाना चाहती है इसलिए अब सीधा न्यायालय का रास्ता ही मात्र बचा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.