Dhanbad News : बिरसा मुंडा पार्क करोना काल के कारण बना जंगल , 27 कर्मचारियों को वेतन पर ग्रहण…

0
न्यूज़ सुने

Dhanbad News : बिरसा मुंडा पार्क करोना काल के कारण बना जंगल , 27 कर्मचारियों को वेतन पर ग्रहण।

NEWSTODAYJ : धनबाद जिले के प्रशिद्ध बिरसा मुंडा पार्क कोरोना की वजह से छह माह से बंद पड़े है।मेंटेनेंस खर्च निकालना भी नगर निगम के लिए मुश्किल हो गया है। इससे निपटने के लिए पिछले माह निगम ने दस में से आठ सिक्योरिटी गार्ड को हटा दिया। इसके बाद भी पार्क के 27 कर्मचारियों को वेतन देना निगम को भारी पड़ रहा है। इन कर्मचारियों को अगस्त माह की तनख्वाह अभी तक नहीं मिली है और अब सितंबर के वेतन पर भी संकट है। सिक्योरिटी गार्ड को हटाने के बाद भी निगम को चार से पांच लाख रुपये वेतन देना है।

यह भी पढ़े…Corona effect : झारखंड शिक्षा मंत्री सांस लेने में तकलीफ़…

अगस्त का ही पांच से छह लाख बकाया चल रहा है।नगर निगम का कहना है पार्क बंद होने से आमदनी हो नहीं रही है और पार्क की बची हुई राशि व दूसरे मद से पिछले पांच माह तक भुगतान किया गया।अब तनख्वाह देना संभव नहीं है। हालांकि नगर आयुक्त कहते हैं कि कोशिश की जा रही है कि सभी कर्मचारियों को वेतन मिल जाए, लेकिन पैसे का संकट तो बना हुआ है। पिछले छह माह से पार्क के माध्यम से एक रुपए की आय निगम को नहीं हुई है। आपको बता दें कि पार्क 27 कर्मचारियों में से तीन लिलौरी स्थान पार्क और चार अन्यत्र कार्यरत हैं। ऐसे में नगर आयुक्त सत्येंद्र कुमार ने निगम के खर्च में कटौती के लिए सुरक्षा गार्डों को हटाने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़े…Grain black market : अनाज कालाबजारी लेकर सरयू राय ने कहा, उसे दंडित किया जाए,लेकिन बेकसूर न फंसें…

प्रतिमाह 6-8 लाख की होती थी टिकट से आमदनी : पार्क मैनेजर निवास बताते हैं कि कोराना काल से पहले बिरसा मुंडा पार्क में आनेवाले पर्यटकों से निगम को महीने में औसतन 5-6 लाख रुपये की आमदनी होती थी। छह माह से एक रुपए की आय नहीं हुई, लेकिन वेतन और मेंटेनेंस का खर्च हर महीने देना पड़ रहा है। पार्क में झाड़ियां उग आ रही हैं, इसे साफ करने का खर्च अलग से देना पड़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here