• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Crime News:साइबर अपराधियों ने सुपरिटेंडेंट को ठगी का शिकार बनाया,98000 ठगे

1 min read

NEWSTODAYJ_दुमका: जिले में साइबर अपराधियों ने सेवानिवृत्त सहायक महानिरीक्षक के नाम पर 98 हजार रुपया मंगवाकर दुमका सेंट्रल जेल (Dumka Central Jail) के सुपरिटेंडेंट सत्येंद्र चौधरी को ठगी का शिकार बना लिया. काराधीक्षक के बयान पर नगर थाना की पुलिस ने मामला दर्ज किया है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

यह भी पढ़े…Crime news:सिपाही ने प्रेमिका पर चलाई गोली,गोलीकांड के बाद पूरे इलाके में सनसनी

क्या है पूरा मामला

दुमका केंद्रीय कारा के अधीक्षक सत्येंद्र चौधरी को साइबर अपराधियों ने अपना शिकार बना लिया है. अपराधियों ने उनसे 98 हजार रुपये की ठगी कर ली. जिसके बाद उन्होंने नगर थाना में लिखित आवेदन देकर शिकायत दर्ज कराई है. पुलिस को दिए आवेदन में जेल के सुपरिटेंडेंट सत्येंद्र चौधरी ने बताया कि 10 सितंबर को उन्हें सेवानिवृत्त जेल महानिरीक्षक प्रवीण कुमार के नाम से व्हाटसअप पर एक मैसेज आया. जिसमें बताया गया कि प्रवीण कुमार बीमार हैं और उन्हें इलाज के लिए 98 हजार रुपये की आवश्यकता है.

साइबर अपराधियों ने दोबारा की पांच लाख रुपये की मांग

मैसेज के जरिये रूपाली अजय के नाम से एक बैंक खाता नंबर भी भेजा गया. जिसमें पैसा भेजने को कहा गया. जिसके बाद सत्येंद्र चौधरी ने मैसेज में भेजे गए अकाउंट नंबर पर 98 हजार रुपये भेज दिया. उसके बाद फिर उसी नंबर से पांच लाख रुपये की मांग की गई. जिसके बाद सत्येंद्र कुमार ने खुद प्रवीण कुमार को फोन लगाया तो पता चला कि उन्होंने कोई पैसा नहीं मांगा है. उसके बाद सत्येंद्र चौधरी को पता चला कि उनके साथ साइबर अपराधियों ने ठगी की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें