NEWSTODAYJ_गिरिडीह: ससुर के साथ एक महिला का अवैध संबंध एक युवक को इतना नागवार गुजरा की उसने अपने रिश्तेदार और दोस्तों के साथ मिलकर महिला को मार डाला. हत्या करने का बाद युवक और उसके साथी फरार हो गए, लेकिन मुफस्सिल थाना पुलिस ने पूरे मामले का उदभेदन करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. जेल भेजे गए आरोपियों में परसन ओपी के खिजरसोता निवासी बीरेंद्र वर्मा, अभिषेक दास और कैलाढाब के पवन वर्मा शामिल हैं.

यह भी पढ़े…Crime news:आंख में मिर्च पाउडर डालकर पेट्रोल पंप कर्मी से 7.76 लाख की लूट

दरअसल, पिछले 21 सितंबर को मुफस्सिल थाना इलाके के सेनादोनी में एक महिला की लाश मिली थी. महिला को गला रेतकर मारा गया था. मामले की सूचना पर एसडीपीओ अनिल कुमार सिंह और इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी विनय राम दलबल के साथ पहुंचे. शव को कब्जे में लेकर सदर अस्पताल भेजा. बाद में महिला की पहचान परसन के खिजरसोत निवासी महेंद्र यादव की पत्नी ललिता देवी के तौर पर की गई.थाना प्रभारी विनय रामब्लाइंड केस के तह तक पहुंची पुलिस

 

घटना के बाद यह साफ नहीं हो रहा था कि महिला की हत्या किसने और किस उद्देश्य से की थी. ऐसे में एसपी अमित रेणू के निर्देश पर एसडीपीओ अनिल कुमार सिंह और थाना प्रभारी विनय राम ने पड़ताल शुरू की. इस टीम में अनि पिंटू कुमार, नागेंद्र कुमार समेत अन्य अधिकारी को लगाया गया. कॉल डंप और कॉल डिटेल निकाला गया. शुरुवाती जांच में कुछ विशेष सुराग नहीं मिल रहा था. मोबाइल सिमकार्ड भी फर्जी मिल रहा था लेकिन हर बिंदू पर जांच हुई तो यह साफ हो गया कि हत्या के पीछे नाजायज संबंध कारण है.

 

गांव के एक व्यक्ति के साथ था संबंधजांच में यह साफ हुआ कि महिला का संबंध गांव के ही सहदेव महतो के साथ था. इसी को लेकर घर में झगड़ा हो रहा था. इस समस्या के समाधान के लिए सहदेव के दामाद देवरी के मंडरो निवासी संतोष कुमार महतो ने योजना बनाई. योजना महिला ललिता को रास्ते से हटाने की बनाई गई. इस योजना में सहदेव के पुत्र बिरेंद्र को शामिल किया गया. चूंकि संतोष मुम्बई में ही रहता था और यहां व गुजरात में उसके गांव कई दोस्त भी रहते थे. ऐसे में हत्या की इस योजना में अपने दोस्तों को भी शामिल किया.

 

 

महिला को फंसाया प्रेमजाल मेंयोजना के मुताबिक संतोष के ही एक दोस्त ने महिला ललिता को अपने प्रेमजाल में फंसाया. इसके बाद 21 सितम्बर को संतोष अपने अन्य तीन साथियों को लेकर मुम्बई से गिरिडीह पहुंचा. संतोष के जिस दोस्त ने ललिता को अपने प्रेमजाल फंसाया था उसने महिला को फोन कर जमुआ बुलाया. ललिता जब जमुआ पहुंच गई तो युवक उसे बाइक पर बैठाकर मुफस्सिल थाना इलाके के सेनादोनी दसमलिया जंगल ले आया. यहीं पर पहले से मौजूद सन्तोष, बिरेंद्र, पवन, अभिषेक समेत सात लोगों ने मिलकर ललिता की हत्या कर दी. इसके बाद सभी फरार हो गए. हत्या के लिए बाइक को जुगाड़ करने में बिरेंद्र और उसके साथियों का हाथ रहा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *