• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Corona vaccine:कोविशील्ड और कोवैक्सीन की खुले बाजार में बिक्री की हुई सिफारिश,पढ़े रिपोर्ट

1 min read

NEWSTODAYJ_नई दिल्ली : डीसीजीआई की विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने कोविशील्ड और कोवैक्सीन की खुले बाजार में बिक्री की सिफारिश की है. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि भारत के केंद्रीय दवा प्राधिकरण के एक विशेषज्ञ पैनल ने बुधवार को कोविड के टीकों कोविशील्ड और कोवैक्सीन को नियमित बाजार में बिक्री की मंजूरी देने की सिफारिश की, यह दोनों वैक्सीन देश में, वर्तमान में, कुछ शर्तों के अधीन, केवल आपातकालीन उपयोग के लिए अधिकृत हैं.

कोविशील्ड और कोवैक्सिन की खुले बाजार में बिक्री की सिफारिश

कोविशील्ड और कोवैक्सीन की खुले बाजार में बिक्री की सिफारिश

फार्मा कंपनी भारत बायोटेक (Bharat Biotech) और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) (Serum Institute of India -SII) ने ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) को अपने संबंधित COVID-19 टीकों कोवैक्सीन और कोविशील्ड के लिए नियमित बाजार प्राधिकरण (seeking regular market authorisation) की मांग करते हुए आवेदन जमा किए थे.

सीरम इंस्टीट्यूट के सरकारी और नियामक मामलों के निदेशक, प्रकाश कुमार सिंह ने इस मामले में 25 अक्टूबर को डीसीजीआई को एक आवेदन दिया था. उस पर डीसीजीआई ने पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट से अधिक डेटा और दस्तावेज मांगे थे, जिसके बाद सिंह ने हाल ही में अधिक जानकारी प्रस्तुत की थी.

यह भी पढ़े…..Corona Update:कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर 23 जनवरी को पहुंचेगी चरम पर :वैज्ञानिक का दावा

इस पर डीसीजीआई ने पुणे स्थित कंपनी से अधिक डेटा और दस्तावेज मांगे थे, जिसके बाद सिंह ने हाल ही में अधिक डेटा और जानकारी के साथ एक जवाब प्रस्तुत किया था. माना जाता है कि सिंह ने अपने जवाब में कहा कि भारत में चरण 2/3 चिकित्सीय ​​अध्ययन के सफलता से पूरा होने के साथ ही अब तक इस देश और दुनियाभर में लोगों को कोविशील्ड टीके की 100 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं. उन्होंने कहा था, ‘कोविशील्ड के साथ इतने बड़े पैमाने पर टीकाकरण और कोविड-19 की रोकथाम अपने आप में टीके की सुरक्षा और प्रभावशीलता का प्रमाण है.’

वहीं, कुछ हफ़्ते पहले डीसीजीआई को भेजे गए एक आवेदन में हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक के पूर्णकालिक निदेशक वी कृष्ण मोहन ने कोवैक्सीन के लिए नियमित विपणन मंजूरी की मांग करते हुए टीके से संबंधित समूची जानकारी उपलब्ध कराई थी.

मोहन ने आवेदन में कहा था कि भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड (बीबीआईएल) ने भारत में टीके (कोवैक्सीन) के विकास, उत्पादन और चिकित्सीय मूल्यांकन करने की चुनौती ली.

आधिकारिक सूत्र ने कहा, ‘केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड​​​​-19 संबंधी विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने बुधवार को दूसरी बार एसआईआई और भारत बायोटेक के आवेदनों की समीक्षा की और कुछ शर्तों के साथ कोविशील्ड एवं कोवैक्सीन को नियमित विपणन की मंजूरी देने की सिफारिश की.’ अनुशंसा को अंतिम मंजूरी के लिए डीसीजीआई को भेजा जाएगा. पिछले हफ्ते की बैठक के दौरान एसईसी ने दोनों कंपनियों से अधिक डेटा और जानकारी मांगी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें