Congress heritage series : कांग्रेस ने धरोहर श्रृंखला में जारी किया बारहवीं वीडियो…

0
न्यूज़ सुने

Congress heritage series : कांग्रेस ने धरोहर श्रृंखला में जारी किया बारहवीं वीडियो…

NEWSTOWDAYJ रांची : कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सह खाद्य आपूर्ति एवं वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने कहा कि पूज्य बापू यूं ही आजादी के महानायक नहीं बन गए थे। भारत भूमि पर आते ही वह देशवासियों की पीड़ा जानने के लिए एक सामान्य व्यक्ति की भांति देश की यात्रा पर निकल पड़े। इसी यात्रा में बिहार ने बापू को उनकी यात्रा का पता बताया और जरिया बना चंपारण।

यह भी पढ़े…Road accident : सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल महिला की इलाज के दौरन मौत…

उरांव मंगलवार को राष्ट्र निर्माण की अपने महान विरासत कांग्रेस की श्रृंखला धरोहर की बारहवीं वीडियो को अपने सोशल मीडिया व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम, फेसबुक एवं ट्विटर पर जारी पोस्ट को शेयर करने के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि नौ जनवरी 1915 को महात्मा गांधी का भारत आगमन हो चुका था।अपने गुरु गोपाल कृष्ण गोखले की सलाह पर गांधीजी संघर्ष के उस दौर में भारत को जानने, देश की समस्याओं को महसूस करने के लिए पूरे देश की अनथक यात्रा पर निकल पड़े, उनकी इस यात्रा में एक पड़ाव आता है।

यह भी पढ़े…Dead body recovered : पुलिया के नीचे युवक का शव बरामद ,जांच में जुटी पुलिस…

बिहार का चंपारण जिला, जहां कि किसानों को ब्रिटिश हुकूमत जबरन नीम की खेती करने के लिए मजबूर कर रही थी। नीम की ये खेती किसानों के खेतों के साथ उनके भविष्य को भी निगल रही थी।महात्मा गांधी इन किसानों के लिए उम्मीद की किरण बनकर आए। इन किसानों की दुर्दशा दूर करने के लिए गांधी ने भारत का पहला नागरिक अवज्ञा आंदोलन शुरू किया जो आगे चलकर इतिहास में चंपारण सत्याग्रह के नाम से जाना गया।कांग्रेस विधायक दल के नेता और मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि।

यह भी पढ़े…Suspicious body recovered : भतीजी की संदेहास्पद स्थिति में शव बरामद , चाचा ने ससुराल वालों पर लगया आरोप…

अंग्रेजों के जुल्म से जब चंपारण त्रस्त था तो महात्मा गांधी मोतिहारी के चंपारण पहुंचकर सत्याग्रह का जो बिगुल फूंका वह चंपारण सत्याग्रह के नाम से प्रसिद्ध है। उन्होंने गुरु के अत्याचार से निलहे किसानों को मुक्ति दिलाई और किसानों से जबरन नील की खेती कराने की प्रथा पर रोक लगाई । चंपारण सत्याग्रह महात्मा गांधी के अहिंसक आंदोलन का भारत भूमि पर पहला प्रयोग था जो मील का पत्थर साबित हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here