Cautious : कोरोना वायरस के बाद अब चीन में नए वायरस का कहर, जानिए क्या है नई बीमारी , अब तक 60 लोग इस बीमारी से संक्रमित पाए गए…

1 min read

Cautious : कोरोना वायरस के बाद अब चीन में नए वायरस का कहर, जानिए क्या है नई बीमारी , अब तक 60 लोग इस बीमारी से संक्रमित पाए गए…

  • कोविड-19 के बाद चीन एक और वायरस की चपेट में आ गया है।
  • बीमारी ने चीन में अब तक सात लोगों की जान ली है और 60 लोग इस बीमारी से संक्रमित पाए गए हैं।

NEWSTODAYJ(एजेंसी) एक तरफ जहां दुनिया कोरोना वायरस महामारी से लड़ रही है तो वहीं दूसरी तरफ चीन से एक और बुरी खबर आ रही है। कोविड-19 के बाद चीन एक और वायरस की चपेट में आ गया है। टिक-जनित वायरस से होने वाली एक नई संक्रामक बीमारी ने चीन में अब तक सात लोगों की जान ली है और 60 लोग इस बीमारी से संक्रमित पाए गए हैं। इस नए रोग के मानव-से-मानव में फैलने की आशांका भी जताई जा रही है। इस वायरस को “सिवियर फीवर विथ थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम वायरस” (SFTS) भी कहते हैं।

यह भी पढ़े…RBI Monetory Policy : RBI का दस महत्वपूर्ण पॉइंट्स बातें रेपो रेट एवं कटौती के बारे में जानें…


इस साल पूर्वी चीन के जिआंग्सु प्रांत में 37 लोग SFTS वायरस के संपर्क में आए। इसके बाद 23 लोग चीन के अनहुई प्रांत में संक्रमित पाए गए। इस वायरस से पीड़ित एक महिला में पहले बुखार, खांसी जैसे लक्षण दिखाई दिए। डॉक्टर्स ने उसके शरीर के अंदर ल्यूकोसाइट, ब्लड प्लेटलेट्स की गिरावट देखी। हालांकि, महिला को एक महीने के इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इस वायरस के कारण अब तक अनहुई और पूर्वी चीन के झेजियांग प्रांत में कम से कम सात लोगों की मौत हुई है।

यह भी पढ़े…Coronavirus : नक्सल प्रभावित मनियाडीह कोरोना से डरा स्क्रीक्रिंग करने में जुटा स्वास्थ्य विभाग प्रशासन…

मानव से मानव में फैलने की आशंका

चीन के लिए SFTS वायरस कोई नया वायरस नहीं है। वर्ष 2011 में सबसे पहले इसका पता चला था। चीन के वायरोलॉजिस्टों का मानना है कि इस वायरस का संक्रमण इंसानों के बीच फैल सकता है। झेजियांग विश्वविद्यालय से संबद्ध अस्पताल के डॉक्टर शेंग जिफांग ने कहा कि वायरस के मानव-से-मानव संचरण की आशंका को दरकिनार नहीं किया जा सकता है। एक मरीज दूसरे व्यक्ति में इस वायरस का प्रसार कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Newstoday Jharkhand | Developed By by Spydiweb.