• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

CAA, NPR और NRC को लेकर संसद में सरकार को घेरने के मूड में विपक्षी दल

1 min read

CAA, NPR और NRC को लेकर संसद में सरकार को घेरने के मूड में विपक्षी दल

NEWS TODAY – CAA, NPR और NRC पर विपक्षी दल आज सोमवार को संसद में सरकार को घेरने की तैयारी में हैl सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस,तृणमूल कांग्रेस,वाम दलों, राष्ट्रीय जनता दल और कुछ अन्य दल पहले ही सीएए, एनपीआर और एनआरसी पर तत्काल चर्चा की मांग लेकर राज्यसभा में स्थगन प्रस्ताव  दे चुके हैंl

ये भी पढ़े-एक अज्ञात सरफिरा ने भोपाल एयरपोर्ट पर टेक ऑफ कर रहे स्पाइस जेट के प्लेन के सामने आ धमका

कांग्रेस और कुछ अन्य विपक्षी दल लोकसभा में भी स्थगन प्रस्ताव देने को तैयार हैंl सूत्रों के मुताबिक विपक्षी दल दोनों सदनों में सीएए (CAA), एनपीआर (NPR) और एनआरसी (NRC) पर चर्चा की मांग कर रहे हैंl विपक्ष ने संसद द्वारा पारित सीएए को ‘असंवैधानिक’ करार देते हुए इसे उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी है, जिस पर इसी महीने सुनवाई होनी है. विपक्षी दलों ने सीएए का विरोध करने वाले राज्यों के मुख्यमंत्रियों से एनपीआर नहीं कराने का भी आग्रह किया हैl

वहीं BJP भी कई बार कह चुकी है कि चाहे विपक्षी दल कितना भी विरोध कर लें, CAA को वापस नहीं लिया जाएगा. गृह मंत्री अमित शाह सहित कई नेताओं ने अलग-अलग अवसरों पर यह बात कही हैl गृह मंत्री अमित शाह ने लखनऊ में एक रैली में कहा था- “जिसे जितना विरोध करना है करे, लेकिन सीएए (CAA) वापस नहीं होगा. उन्होंने विपक्ष को चुनौती देते हुए कहा कि वे बताएं कि नागरिकता संशोधन कानून में कहां किसी की नागरिकता लेने की बात लिखी है. सिर्फ वोटबैंक की सियासत के लिए लोगों को गुमराह किया जा रहा हैl

Leave a Reply

Your email address will not be published.