• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

BPL कोटे से एडमिशन के लिए DSE कार्यालय के क्लर्क ने मांगा नजराना, पीड़ित परिवार मासूम संग बैठा भूख हड़ताल पर। पढ़ें पूरी खबर……

1 min read

धनबाद।

BPL कोटे से एडमिशन के लिए DSE कार्यालय के क्लर्क ने मांगा नजराना, पीड़ित परिवार मासूम संग बैठा भूख हड़ताल पर। पढ़ें पूरी खबर……

धनबाद। शिक्षा का अधिकार कानून के तहत बीपीएल कोटे से एडमिशन के लिये पहली कक्षा में शुभम वर्मा नामक एक छात्र को डीएवी कुसुंडा के द्वारा पिछले 3 सालों से बरगलाया जा रहा है।हर बार लिस्ट में नाम आने के बाद उसका एडमिशन नहीं किया जाता है और बार-बार स्कूल प्रबन्धन और DSE कार्यालय के क्लर्क के द्वारा पैसे की मांग की जाती है। इसी के विरोध में आज झारखण्ड स्मिता जागृति मंच के द्वारा रंजीत सिंह परमार के नेतृत्व में धनबाद के रणधीर वर्मा चौक पर मासूम छात्र शुभम उसके माता पिता एवं कई लोग एक दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठ कर विरोध जताया है। भूख हड़ताल पर बैठे रंजीत सिंह परमार ने कहा कि शिक्षा माफियाओं के द्वारा शिक्षा के अधिकार कानून को नहीं माना जा रहा है, ना ही उसे इंप्लीमेंट किया जा रहा है । मनमानी तरीके से स्कूलों में फीस बढ़ाया जा रहा है और बढ़े हुए फीस को वापस नहीं लिया जा रहा है ।और तो और गरीब बच्चों को एडमिशन के लिए भी मोटी रकम की मांग की जाती है और जब कोई शख्स नजराना देने में असमर्थ होता है तो उसके बच्चे का एडमिशन नहीं लिया जाता है उसके जगह पर किसी और का एडमिशन हो जाता है ।डीएसई कार्यालय के एक क्लर्क संजय कुमार पर गंभीर आरोप लगाते हुए उस पर ₹10000 नजराना के तौर पर मांगने का आरोप लगाया और इस पर शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों की चुप्पी को हास्यपद बताया।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.