BOKARO NEWS: मनरेगा के तहत् बिरसा मुंडा आम बागवानी योजना का 5 एकड़ भूमि पर किया गया पौधारोपण

संवाददाता- बबलु कुमार

कसमार।  कसमार प्रखंड क्षेत्र के खैराचातर पंचायत अन्तर्गत मेरमहारा गाँव में शुक्रवार को मनरेगा के तहत् बिरसा मुंडा आम बागवानी योजना के तहत ग्राम प्रधान प्रतिमा देवी एवं बीपीओ राकेश कुमार के द्वारा 5 एकड़ भूमि पर पौधारोपण किया गया। यह आम बागवानी का कार्य मेरमहारा के माथुर महतो, शिवराम महतो, भुनेश्वर महतो, चतुर महतो एवं नुनिवाला देवी की जमीन पर की जा रही है। इस योजना की प्राक्कलित एक एकड की राशि 73000=00 रखी गई है। इस योजना के तहत पौधरोपण किया गया। ईस कार्यक्रममें पंचायत के कार्यकारी समिति सदस्य, ग्राम रोजगार सेवक दुलाल सिंह, कनीय अभियंता सुखदेव सोरेन, वेद प्रकास, उर्मिला देवी एवं ग्रमीण ल उपस्थित थे। इस कार्यक्रम के पश्चात पंचायत में हो रहे मनरेगा कार्यों का भी  निरीक्षण किया गया।

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

मनरेगा के तहत् बिरसा मुंडा आम बागवानी योजना क्या है-

इस योजना के तहत कोई भी रैयत अपनी जमीन पर पौधा लगवा सकता है। पौधा, खाद आदि सरकार उपलब्ध कराती है। पौधों को लगाने व उसकी देखरेख करनेवाले मजदूरों को मनरेगा के तहत मजदूरी का भुगतान किया जाता है। रैयत अगर मनरेगा के तहत निबंधित है तो उसे भी मजदूरी का भुगतान किया जा सकता है। पौधारोपण की देखरेख करनेवाले मेट को भी भुगतान किया जाता है। अगर खेत के आसपास सिचाई की व्यवस्था नहीं है तो मनरेगा के तहत कूप निर्माण व खेत में घेरेबंदी के लिए अलग से राशि दी जाती है। बागबानी मित्र समय-समय पर पौधों की देखभाल करते हैं। एक एकड़ में 55-60 फलदार पौधा व किनारे इमारती लकड़ी का पौधा लगाया जाता है। कुल मिलाकर रैयत को केवल जमीन उपलब्ध करानी होती है। उसपर पौधरोपण का पूरा खर्च सरकार वहन करती है। तीन साल तक उसकी देखरेख भी करती है। इसके बाद उसे रैयत को सौंप दिया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here