Bihar News : सीएम नीतीश की नीति अंग्रेजों वाली, बांटो और राज करो – चिराग पासवान…

0
न्यूज़ सुने

Bihar News : सीएम नीतीश की नीति अंग्रेजों वाली, बांटो और राज करो – चिराग पासवान…

NEWSTODAYJ बिहार : प्रधानमंत्री को दिल में रखने का दावा करने वाले चिराग पासवान ने भागलपुर की चुनावी सभा में मुख्यमंत्री पर जमकर हमला बोला। पीएम की शैली में ही लोगों से मुखातिब होकर पूछा- बोलिए, सीएम को बदलना चाहिए कि नहीं बदलना चाहिए। शुक्रवार को सैंडिस मैदान में भागलपुर विधानसभा क्षेत्र से लोजपा प्रत्याशी राजेश वर्मा के समर्थन में आयोजित चुनावी सभा में चिराग पासवान करीब 25 मिनट बोले।

यह भी पढ़े…Meteorologist : झारखंड में 15 नवंबर से बढ़ेगी ठंड, पिछले साल की तुलना में इस बार ज्यादा ठंड के आसार…

इसमें से 20 मिनट तक मुख्यमंत्री की नीतियों और कामकाज की आलोचना करते रहे। कहा, नीतीश कुमार अगले 10 नवंबर तक के लिए ही सीएम हैं।मुख्यमंत्री की तुलना अंग्रेजों से करते हुए चिराग ने कहा कि उनकी नीति है बांटो और राज करो। जातियों और उपजातियों में, पिछड़ों व अतिपछड़ों में, दलितों व महादलितों में बांटकर वह लोगों का वोट के रूप में इस्तेमाल करते हैं। बिहार में एक ही जाति है। वह है गरीबों की जाति। जरूरत गरीबों के उत्थान की है। इनको अच्छी शिक्षा और रोजगार देने की जरूरत है।

यह भी पढ़े…Eid Milad-un-Nabi : हेमंत सोरेन ने देश एवं राज्यवासियों को ईद मिलाद-उन-नबी की शुभकामनाएं दी…

बिहार फर्स्ट और बिहारी फर्स्ट के तहत राज्य का विकास करने के लिए लोजपा को सरकार बनाने का मौका यहां के लोग दें। इसके लिए लोजपा प्रत्याशी को वोट करें।लोजपा सुप्रीमो ने कहा कि सात निश्चय योजना में जमकर भ्रष्टाचार हुआ है। लोजपा की सरकार बनी तो योजनाओं की जांच कराई जाएगी। दोषियों को जेल भेजा जाएगा। बिहार के लोग शिक्षा और रोजगार के लिए पलायन कर रहे हैं।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खिलाफ “वादा खिलाफी” पैदल मार्च निकाला BJP विधायक…

बिहार को उस लायक बनाने की जरूरत है कि दूसरे राज्यों के लोग यहां शिक्षा और रोजगार के लिए आएं। यहां के पर्यटन स्थलों का विकास कर रोजगार को बढ़ावा दिया जा सकता है। कोटा में विद्यार्थी भी बिहारी होते हैं और शिक्षक भी बिहारी, मगर व्यवस्था राजस्थानी है। भागलपुर जैसे शहर को कोटा की तरह बनाया जाना चाहिए। यहीं के शिक्षक, यहां के विद्यार्थियों को यहां की व्यवस्था में पढ़ाएंगे। भागलपुर के सिल्क को राष्ट्रीय ही नहीं, अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलनी चाहिए। मुख्यमंत्री की नीति ही नहीं है कि सिल्क उद्योग को बढ़ावा मिले। आखिर में उन्होंने अपने पिता को याद किया और कहा कि अब वो इस दुनिया में नहीं हैं। मैं जंगल में अकेला एक शेर की तरह निकला हूं। आपका साथ चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here