• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Bhopal: आतंकवादियों का वैक्सीन लेने से इनकार, जेल में बंद कैदियों को लग चुका है वैक्सीन….

1 min read

Bhopal: आतंकवादियों का वैक्सीन लेने से इनकार, जेल में बंद कैदियों को लग चुका है वैक्सीन….

 

NEWSTODAYJ_Bhopal:कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के साथ ही देश में वैक्सीनेशन का दौर भी शुरू हो चुका है। मध्य प्रदेश में भी कम होते कोरोना मरीजों के बाद अब स्वास्थ्य विभाग और राज्य शासन का पूरा ध्यान वैक्सीनेशन पर है।

यह भी पढ़ें…अनलॉक: दिल्ली समेत कई अन्य राज्य भी बढ़ेंगे अनलॉक की ओर, दी जाएंगी कुछ रियायतें

वहीं अगर बात करें जेलों की तो प्रदेश की जेलों में भी शत प्रतिशत कोरोना वैक्सीनेशन अभियान के तहत कैदियों को टीका लगाया जा रहा है। जेल विभाग ने सभी कलेक्टर को निर्देश दिए थे कि उनके क्षेत्र में आने वाली जेलों में टीकाकरण की रफ्तार तेज की जाए और वहां शत-प्रतिशत टीकाकरण हो। इस निर्देश के बाद प्रदेश की अधिकांश जेलों में पूरी तरह से कैदियों को टीकाकरण हो चुका है। लेकिन, भोपाल की सेंट्रल जेल ऐसी इकलौती जेल है, जहां सिमी आतंकियों ने वैक्सीनेशन कराने से मना कर दिया है।

 

जानकारी अनुसार राजधानी में अब तक 99 फीसदी कैदियों को टीका लग चुका है। इस जेल में सिमी के 28 आतंकवादी भी सजा काट रहे हैं जिनमें से से 23 आतंकियों ने वैक्सीन लगवाने से इंकार कर दिया है। हालांकि 5 आतंकी ऐसे भी हैं जिन्हें अपनी जान की परवाह भी है जैसे कि सिमी के सरगना सफदर नागौरी, हाफिज, अहमद बेग, आमिल परवेज और अमान टीका लगवा चुके हैं। फिलहाल अब ये चिंता की बात है कि आखिर जेल के अंदर रहते हुए आखिर कब तक कैदी क्यों दूसरों की और खुद की जान जोखिम में डालते रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.