Agricultural law : किसानों की लड़ाई के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने की ये खास अपील…

Agricultural law : किसानों की लड़ाई के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने की ये खास अपील…

NEWSTODAYJ : नई दिल्ली।नए कृषि कानूनों के मसले पर सरकार और किसानों के बीच की जंग अभी खत्म नहीं हो रही है।किसान संगठन लगातार कृषि कानून को खत्म किए जाने की मांग कर रहे है तो सरकार इन कानूनों को वापस लेने के पक्ष में नहीं है।हालांकि सरकार किसानों से वार्ता कर इन कानूनों में संशोधन करने पर जोर दे रही है.

यह भी पढ़े…Jharkhand News : राज्य के सरकारी व निजी अस्पताल के डॉक्टर कार्य बहिष्कार करेंगे…

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

सरकार इस मसले को सुलझाने में पूरी कोशिश कर रही है।किसानों के साथ पांच दौर की वार्ता और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात भी कोई हल नहीं निकला है।किसान सरकार के लिखित प्रस्ताव को भी मानने को तैयार नहीं है।इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक खास अपील की है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह एक ट्वीट किया, जिसमें  कृषि मंत्री द्वारा किसान आंदोलन के मसले पर की गई प्रेस कॉन्फ्रेंस का जिक्र किया गया है।

यह भी पढ़े…Jharkhand News : पुलिस ने की एक करोड़ के चार इनामी सहित 12 हार्डकोर नक्सलियों की तस्वीर जारी…

ट्वीट में पीएम मोदी ने लोगों से उन्हें सुनने की अपील की है. प्रधानमंत्री ने ट्वीट में लिखा, ‘मंत्रिमंडल के मेरे दो सहयोगी नरेंद्र सिंह तोमर जी और पीयूष गोयल जी ने नए कृषि कानूनों और किसानों की मांगों को लेकर विस्तार से बात की है। इसे जरूर सुनें।केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कृषि कानूनों पर विस्तार से सरकार का रुख स्पष्ट किया।खाद्य, रेलवे और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल के साथ संवाददाताओं को संबोधित करते हुए तोमर ने कहा कि वह अब भी वार्ता के जरिए समधान निकलने को लेकर आशान्वित हैं।कृषि मंत्री ने कहा, ‘सरकार किसानों से आगे और वार्ता करने को इच्छुक और तैयार है.. उनकी आशंकाओं को दूर करने के लिए, हमने किसान यूनियनों को अपने प्रस्ताव भेजे हैं।हमारी उनसे अपील है कि वे जितना जल्द से जल्द संभव हो वार्ता की तिथि तय करें, अगर उनका कोई मुद्दा है, तो उस पर सरकार उनसे वार्ता को तैयार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here