गृह सचिव के आदेश पर 2 सदस्य टीम “अधिवक्ता द्वारा नाबालिक के छेड़छाड़” केस की जांच को धनबाद पहुंचे

0
219

न्यूज टुडे

झारखंड बिहार


धनबाद।

धनबाद।गृह सचिव के आदेश पर उतरी छोटानागपुर  प्रमंडलीय आयुक्त और डीआईजी साकेत कुमार वकील द्वारा नाबालिग से छेड़खानी मामले की जांच करने  धनबाद पहुंचे।


जेल में बंद आरोपी वकील आश्विनी कुमार, पीड़िता के परिजन एवं आसपास के लोगों से मिलकर मामले की जानकारी आयुक्त एवं डीआईजी ने लिया। 


प्रमंडलीय आयुक्त वंदना डाडेल, डीआजी साकेत कुमार  के साथ जिले के डीसी ए डोड्डे , एसएसपी मनोज रतन चौथे ,एसपी ,एसडीएम एवं कई अधिकारी जेल पहुंचकर आरोपी वकील अश्विनी कुमार से मिलकर घटना की जानकारी ली।


कुछ देर बाद जेल से डीसी निकलकर चले गए। डीसी के अलावे जिले के तमाम अधिकारी जेल में आयुक्त एवं डीआईजी के संग मौजूद रहे। करीब एक घंटे तक आरोपी वकील से अधिकारियों ने पूछताछ किया। 


आरोपी वकील से पूछताछ के बाद आयुक्त व डीआईजी के सिटी एसपी एवं अन्य अधिकारी मामले के छानबीन करने पुराना बाजार के उस स्थान पर पहुंचे जहां यह घटना घटी।


यहाँ के आसपास के लोगो से पूछताछ किया।


कई लोगो से उनका लिखित बयान भी अधिकारियों ने लिया। अधिकारियों ने करीब एक घंटे तक यहाँ के लोगो से पूछताछ की। 


आसपास के लोगों का बयान लेने के बाद आयुक्त व डीआईजी समेत अन्य अधिकारी उठकर वहां से जाने लगे। आरोपी वकील की पत्नी ने अधिकारियों को रास्ते में रोक लिया।


और कहा मेरी भी फरियाद आप सब सुनिए।


अधिकारियों ने उन्हें उनके घर पर चलने को कहा। घर पर बैठकर अधिकारियों ने आरोपी वकील की पत्नी से भी पुछताछ किया। यहाँ अधिकारियों ने दस से पंद्रह मिनट पूछताछ किया।


अधिकारियों की टीम नाबालिग की माँ से मिलने पहुंचे। नाबालिग की माँ से अधिकारीयों के करीब आधे घंटे तक पूछताछ की।


नाबालिग की माँ बयान अधिकारीयों ने दर्ज किया है। 


मीडिया से बाते करते हुए प्रमण्डलीय आयुक्त वंदना डाडेल ने कहा कि गृह सचिव के आदेश के पर दो सदस्यी टीम मामले की जाँच करने पहुंचे है। उन्होंने कहा कि विशेषकर  पुलिस की कार्रवाई की जांच की जा रही है साथ  ही कई अन्य बिंदुओं पर भी जांच करने की बात कही है ।


वहीँ डीआईजी साकेत कुमार ने कहा कि मामले की  जाँच की जा रही है जीतनी जल्दी हो सके जांच कर रिपोर्ट गृह सचिव को प्रस्तुत की जाएगी।


उन्होंने वकीलों की चल रहे हड़ताल पर कहा कि उनका कोई प्रतिनिधि यदि हमसे बात करना चाहे तो कर सकते हैं।


साथ ही उन्होंने कहा कि वकीलों के द्वारा एक लिखित स्टेटमेन्ट आया है उसे देखने के बाद उस पर किया जाएगा।


पीड़िता की माँ  रो रोकर मीडिया से न्याय की गुहार लगाती रही। माँ कहना है कि मेरी बच्ची को न जाने कितनी बार उस वकील ने टॉर्चर किया है। माँ सिर्फ एक ही रट लगा रही थी मुझे न्याय चाहिए।


आरोपी वकील की पत्नी  मीडिया से बाते करते हुए अपने पति को निर्दोष बता रही है। पत्नी का कहना है बिजली लगाने को लेकर नाबालिग के परिवार  से विवाद चल रहा था जिसे कारण उसे झूठे आरोप में फसाया गया है। 


बता दें कि 27 अप्रैल की मध्य रात्रि को नाबालिग से छेड़खानी  के आरोप में अधिवक्ता आश्विनी कुमार को उसके घर के दरवाजे को गैस गटर से काटकर गिरफ्तार कर पुलिस द्वारा उसे जेल भेजा गया था। इसे लेकर धनबाद के वकीलो में आक्रोश है और वह पिछले तीन दिनों से हड़ताल पर हैं।


रखे आप को आप के आस पास के खबरों से आप को आगे ,newstodayjharkhand.com watsaap9386192053

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here