31 जुलाई तक झारखण्ड के स्कूलों में किसी भी काम के लिए शिक्षक, छात्र-छात्रा और कर्मचारियों के आने पर पाबंदी

[URIS id=45547]

31 जुलाई तक झारखण्ड के स्कूलों में किसी भी काम के लिए शिक्षक छात्र-छात्रा और कर्मचारियों के आने पर पाबंदी

NEWSTODAYJ – कोरोनावायरस के संक्रमण के लगातार बढती गति को देखते हुए झारखंड में 31 जुलाई तक किसी भी स्कूल-कॉलेज में ऑफलाइन नामांकन नहीं हो पाएगा। इसको लेकर केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने स्कूलों में किसी भी काम के लिए शिक्षक छात्र-छात्रा और कर्मचारियों के आने पर पाबंदी लगा दी है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले पर केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय की स्कूली शिक्षा और साक्षरता सचिव मे मुख्य सचिव को इस बाबत पत्र लिखकर निर्देश दिया है। केंद्र के आदेश के बाद राज्य सरकार इसे प्रदेश में लागू करने की तैयारी कर रही है। झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद के राज्य परियोजना निदेशक ने कहा कि राज्य के स्कूलों में आपदा प्रबंधन विभाग के निर्देशों के आधार पर काम हो रहा है। राज्य सरकार केंद्र के निर्देश पर जो भी फैसला लेगी उसका पालन किया जाएगा।

ये भी पढ़े…

कोरोना अपडेट-झारखण्ड में कोरोना संक्रमितों का बढ़ने लगा है दायरा अबतक 3363

स्कूली शिक्षा व साक्षरता सचिव ने निर्देश दिया है कि स्कूल कॉलेज और शैक्षणिक संस्थानों के शिक्षक और कर्मचारी 31 जुलाई तक संस्थान नहीं आएंगे। वह घर से ही काम करेंगे। स्कूल कॉलेजों के छात्र छात्राओं के लिए ऑनलाइन डिजिटल कंटेंट वे घर से ही भेजेंगे। इसके लिए स्कूल या अन्य जगहों पर नहीं आएंगे। उन्होंने स्पष्ट किया है कि केंद्र सरकार ने 29 जून को जो निर्देश स्कूल कॉलेज और शिक्षण संस्थानों के लिए जारी किया है उसका  कठोरता से पालन किया जाए। केंद्र के निर्देश के बाद झारखंड के स्कूलों में  शिक्षकों की ओर से चलाए जा रहे कई काम बंद हो जाएंगे। स्कूलों में पहली, छठी, 9वीं क्लास के लिए चल रही नामांकन की प्रक्रिया बंद हो जाएगी। साथ ही, बच्चों को  स्कूलों में ही दिए जा रहे पाठ्यपुस्तक और मध्याह्न भोजन योजना के चावल वितरण की प्रक्रिया भी बंद करनी पड़ेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here