27 सीनियर डॉक्टर छोड़ सकते हैं रिम्स ले सकते हैं वीआरएस……….

0
http://newstodayjharkhand.com/wp-content/uploads/2018/05/PicsArt_05-23-01.04.13.jpgItalian Trulli

रांची।

27 सीनियर डॉक्टर छोड़ सकते हैं रिम्स ले सकते हैं वीआरएस……….

रांची। झारखंड के सबसे बड़े अस्पताल राजेन्द्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) को छोड़ने का डॉक्टरों का सिलसिला लगातार जारी है। मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डॉ. संजय सिंह के बाद अब एक और सीनियर प्रोफेसर डॉ. विद्यापति ने भी रिम्स छोड़ने का फैसला लिया है। बताते चलें कि उन्होंने रिम्स प्रबंधन को अपना वीआरएस आवेदन सौंप दिया है।Image result for वीआरएस के लिए एक और आवेदन के बाद 27 सीनियर डॉक्टर छोड़ सकते हैं रिम्स अपने आवेदन में डॉ विद्यापति ने रिम्स छोड़ने का कारण खराब स्वास्थ्य बताया है, लेकिन असल में सच यह है कि निदेशक की कार्यशैली और निजी प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टरों की जांच एन्टी करप्शन ब्यूरो ( एसीबी) से कराने के सरकार के फैसले से अस्पताल के डॉक्टर खफा हैं। इसलिए वीआरएस लेने का सिलसिला शुरू हो गया है। वहीं जब इस सिलसिले में रिम्स के निदेशक से सवाल किया गया, तो उन्होंने कहा कि उन्हें अभी वीआरएस का कोई आवेदन नहीं मिला है।
बताते चलें कि जानकारी के अनुसार रिम्स के करीब 27 सीनियर डॉक्टर ने अस्पताल छोड़ने का मन बना लिया है। गौरतलब है कि बीते सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने रिम्स जाकर डॉक्टरों से बात की थी और दावा किया था कि डॉक्टर अस्पताल नहीं छोड़ेंगे, परंतु इसका कोई असर होता नहीं दिख रहा है। ऐसे में रिम्स की स्थिति देखते हुए ट्रॉमा क्रिटिकल के लिए चयनित डॉ. राजीव रंजन ने भी यहां योगदान देने से इंकार कर दिया है। बता दें कि 14 जुलाई से रिम्स के ट्रॉमा सेंटर को शुरू किया जाना है, जिसके लिए डॉक्टरों की नियुक्ति की जा रही है। रिम्स के मेडिसिन विभाग में 8 प्रोफेसर, 9 एसोसिएट प्रोफेसर कार्यरत हैं तथा विभाग में अभी कोई असिस्टेंट प्रोफेसर कार्यरत नहीं हैं।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Italian Trulli

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here