हूल दिवस पर सिद्धो-कान्‍हो जैसे महापुरुषों को नमन कर उनके पदचिन्हों पर चलने का करें संकल्प- धनबाद उपायुक्त

हूल दिवस पर सिद्धो-कान्‍हो जैसे महापुरुषों को नमन कर उनके पदचिन्हों पर चलने का करें संकल्प- धनबाद उपायुक्त

NEWSTODAYJ धनबाद – सिधू कान्हू ने 30 जून को 20 हजार संथालों ने ब्रिटिश सत्ता साहूकारों व्यपारियों जमींदारों एवं महाजन द्वारा अवैध लगान कर वसूली के खिलाफ संथालों ने विद्रोह का नारा दिया करो या मरो, अंग्रेजों हमारी माटी छोड़ो। अंग्रेज भारत छोड़ो नारा के साथ ही नीले गोरो को मार भागने का संकल्प लिया। संथाल विद्रोह भोगनाडी से शुरु हुआ जिसमें संताल तीर धनुष से अपने दुश्मनों पर टूट पड़े थे।

वहीँ इस अवसर पर आज 30 जून को धनबाद उपायुक्त ने ट्वीट कर 30 जून के इस महान गाथा को साझा किया हैl ट्वीट में उपायुक्त ने कहा आजादी की लड़ाई में अंग्रेजों के छक्‍के छुड़ाने वाले आदिवासियों के संघर्ष गाथा, उनके बलिदान तथा अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ विद्रोह के प्रतीक के तौर पर आज हूल दिवस मनाया जा रहा है। इस अवसर पर आइए हम सिद्धो-कान्‍हो जैसे महापुरुषों को नमन करें तथा उनके पदचिन्हों पर चलने का संकल्प करें।

ये भी पढ़े…

स्वच्छता को लेकर धनबाद उपायुक्त ने दिए विशेष निर्देश-1 से 15 जुलाई तक जिलेभर में चलाया जाएगा स्वच्छता अभियान

बताते चले कि आदिवासियों के ऊपर हो रहे अत्याचार शोषण अन्याय के खिलाफ संताल हूल का नेतृत्व भोगनाडी जिला साहेबगंज झारखंड चुनु मुर्मू के चार पुत्रों सिधो मुर्मू, कान्हू मुर्मू, चांद, भैरोव चारो भाइयों जन समूह को एकीकृत करने अंग्रेजों के विरूद्ध विद्रोह करने का संकल्प लिया। परंपरागत ढंग से डुगडूगी बजाकर एवं साल टहनी क्रांति संदेश का प्रतीक भेजकर 30 जून 1855 को भोगनाडी में विशाल जन सभा रैली की गई। इसमें लगभग 20 हजार संतालों ने अपने पारंपरिक तीर धनुष हथियार के साथ पहुंचे इस विशाल हूल क्रांति को सफल बनाने के लिये भोगनाडी जाहिर गाड़ पूजा स्थल की वीर माटी हाथों के मुट्टी में लेकर मरांग बुरु मुख्य देवता जाहेर आयो मुख्य देवी की दर्शन और उनके आशीर्वाद शपथ ग्रहण लेकर भारत देश का आजादी अंग्रेजी सरकार के दमनकारी शासन के विरूद्ध में 50 हजार संथालो ने एकजुट होकर तीर धनुष व भाला तलवार लेकर अंग्रेजों के साथ खूनी संघर्ष की लड़ाई में 30 हजार संथालो ने अपना जीवन बलिदान दिया था।

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here