सप्ताह भर पहले बेतला नेशनल पार्क के जंगलों में हुई मादा हाथी की मौत का कारण नही हो पाया स्पष्ट…

1 min read

सप्ताह भर पहले बेतला नेशनल पार्क के जंगलों में हुई मादा हाथी की मौत का कारण नही हो पाया स्पष्ट

  • एक सप्ताह गुजर जाने के बाद भी स्पष्ट नहीं हो पाई है हथिनी की मौत का कारण
  • खाद्य आपूर्ति मंत्री सह संसदीय मंत्री सरयू राय ने हथिनी के मौत पर जताई थी हत्या की आशंका

NEWSTODAYJबरवाडीह:- पलामू टाइगर रिजर्व क्षेत्र के बेतला नेशनल पार्क के जंगलों में पिछले सप्ताह एक हथिनी की मौत हो गए थी मादा हाथी के मौत का वास्तविक कारणों का पता उसकी मौत के एक सप्ताह गुजर जाने के बाद भी स्पष्ट नहीं हो पाई है जिसे लेकर वन पदाधिकारियों एवं वन कर्मियों की क्रियाकलाप पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है। फरवरी माह में एक बाघिन की मौत तथा अप्रैल-मई में क्रमशः एक एवं दो बाइसन की मौत हो गई थी। जिसकी रिपोर्ट 3 से 5 महीना गुजर जाने के बाद भी वन अधिकारियों के द्वारा सार्वजनिक नहीं की गई लगातार पलामू टाइगर वन क्षेत्र के बेतला नेशनल पार्क के जंगलों में जंगली जीवो की हो रही लगातार मौत जंगली जीवों पर संकट आने का एक संकेत है अगर समय रहते सरकार, संबंधित मंत्रालय एवं वन अधिकारी सजग नहीं हुए तो विख्यात बेतला नेशनल पार्क का अस्तित्व पर खतरा मंडराने लगेगा।

ये भी पढ़े- प्रशिक्षणरत आईएएस अधिकारियों ने किया बेतला नेशनल पार्क में वृक्षारोपण…..


अधिकारियों के ढुलमुल रवैया और अपनी कार्य के प्रति जवाबदेह नहीं होने के कारण अभी तक इनमें से मृत किसी भी जानवर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की गई है नाही जंगली जीव का मरने का वास्तविक कारण स्पष्ट रूप से बताया गया है। वही इस मामले पर पूर्व खाद्य आपूर्ति मंत्री सह संसदीय मंत्री सरयू राय ने हाथी के मौत पर जताये हत्या की आशंका…. मामले पर मुख्यमंत्री को टीम गठित कर जांच करवाने को लेकर लिखे पत्र बीते 14 जुलाई को बेतला नेशनल पार्क गेट के कुछ दूरी पर बीसी 1 जंगल उतरी वन क्षेत्र मे आता है जिसे मरकुटी के नाम से जाना था है वही मिला था हाथी का शव..

ये भी पढ़े- CORONA TEST : कोरोना पीड़ित JMM विधायक के स्वास्थ्य में सुधार, रिपीट टेस्ट निगेटिव तो मिलेगी TMH से छुट्टी…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Newstoday Jharkhand | Developed By by Spydiweb.