सचिन पायलट की वजह से कहीं बिगड़ नहीं जाए राजस्थान में गहलोत सरकार की सीटों का गणित

[URIS id=45547]

सचिन पायलट की वजह से कहीं बिगड़ नहीं जाए राजस्थान में गहलोत सरकार का सीटों का गणित

NEWSTODAYJ – मध्यप्रदेश के बाद अब राजस्थान का राजनीतिक अपने उबाल पर है समीकरण का खेल कहीं बिगड़ न जाए आपको बतादें कि इसमें सबसे मुश्किल हालत कांग्रेस के लिए हैंl क्योंकि इस लड़ाई में एक तरफ प्रदेश के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत हैं, तो वहीं दूसरी तरफ डिप्टी सीएम और कांग्रेस के युवा चेहरा सचिन पायलट हैंl

ये भी पढ़े…

कोरोना दस्तक के बाद दो दिनों के लिए बंद किया गया कोयला भवन

अब तो गहलोत और पायलट के बीच की यह लड़ाई इतनी बढ़ गई कि देर रात कांग्रेस ने आज होने वाली विधायक दल की बैठक में सभी विधायकों के शामिल होने के लिए व्हिप भी जारी कर दी है और प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे ने साफ तौर पर कहा कि जो भी विधायक इसका उल्लंघन करेगा उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगीl  वहीं इससे पहले अशोक गहलोत ने सचिन पायलट पर बीजेपी के संपर्क में होने का आरोप लगाया था. इस समय पायलट दिल्ली में हैं और इतना ही नहीं उन्होंने रविवार को कांग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थामने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी मुलाकात की थीl

बताते चले कि राजस्थान में 2018 में विधानसभा चुनाव हुए थे, जिसमें हर बार की तरह ही बीजेपी और कांग्रेस के बीच आमने-सामने की टक्कर थीl मौजूदा समिकरण की बात की जाए तो राज्य में बीजेपी के 72 विधायक हैंl साथ ही उसे हनुमान बेनीलाव की आरएलपी के तीन विधायकों का भी समर्थन हासिल हैl इस तरह बीजेपी के पास कुल 75 का नंबर हैl वहीं अब अगर कांग्रेस के खेमे पर नजर डाली जाए तो कांग्रेस के खुद के पास 107 विधायक हैंl इसके अलावा निर्दलिय और दूसरी छोटी पार्टियों के समर्थन को मिला कर उसके पास 120 का आंकड़ा हैl कुल मिलकर राजस्थान में विधानसभा सीट हैं 200 और बहुमत के लिए चाहिए 101 सीटl इस हिसाब से कांग्रेस के पास इस समय बहुमत से ज्यादा सीट हैंl वहीं अब अगर बीजेपी इस आंकड़े तक पहुंचने की कोशिश करे, तो भी 45 विधायकों का अंतर पड़ रहा हैl

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here