श्रावणी मास की दूसरी सोमवारी में आस्था का जन शैलब तो नही उमड़ा पर भक्ति की राषधारा अहले सुबह से बाबा मंदिर में बहने लगी…

0
[URIS id=45547]

NEWSTODAYJ : देवघर श्रावणी मास की दूसरी सोमवारी को बाबा नगरी में आज आस्था का जन शैलब तो नही उमड़ा लेकिन भक्ति की राषधारा अहले सुबह से बाबा मंदिर में बहने लगी  पुरे सावन दूध और गंगा जल से अभिषेक करने पर मनोवांछित फल की प्राप्ति होगी और धन की वर्षा होगी सोमवारी का अपना महत्व है सोम चन्द्रमा को कहते है और चन्द्रमा के ईश्वर देवादिदेव महादेव है और इनके मस्तक  पर भी चन्द्रमा बिराजमान है लिहाजा सोमवारी काफी फलदाई होता है इसी वजह से शिव को सोमेश्वर कहते है दूसरी तरफ सोमवार  ही को ही लिंग का अभिर्भाव हुआ था कथाओ में यह भी वर्णित है की गंगा का पृथ्वी पर पदार्पण भी सावन के सोमवारी को ही हुआ था इसी वजह से  सोमवारी को उत्तम दिन माना जाता है सावन के महीने में ही समुद्र मंथन हुआ था और हर सोमवारी को एक बेशकीमती वस्तु निकली थी और ये सभी वस्तुएं जगत के कल्याण के लिए निकला था.

यह भी पढ़े…

सिटी थाना को किया गया सील 30 पुलिस कर्मी किये गये कोरेन्टयिंन…

सावन की दूसरी  सोमवारी को , ऐरावत हाथी की उत्पत्ति हुई  थी जो शक्ति वैभव ओर ऐश्वर्य का प्रतीक माना गया है जानकारों के अनुसार यही कारण है कि आज के दिन पवित्र द्वादस ज्योतिर्लिंग के जलाभिषेक से सभी मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है  आज नियमो में बदलाव करते हुए देवघर डीसी  नैंसी सहाय ने मंदिर में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी करवा दी है दूसरे सोमवार इससे महिलाओं और बच्चों के सरकारी पूजा में शामिल होने पर रोक लगा दी गई है साथ ही पुरोहित समाज के लोग भी सामाजिक दूरी का पालन करते हुए सरकारी पूजा में शामिल होंगे इसकी संख्या भी सीमित कर दी गई हैतकरीबन 4 बजे मंदिर का पट खोला गया और फिर काचा जल पूजा की परंपरा पुजारियों द्वारा सम्पन्न हुआ इसके बाद देवघर डीसी की निगरानी में सरकारी पूजा सामाजिक दूरी का पालन करते हुए निर्वाहन कराया गया, इसके पहले एक दिन पूर्व ही मंदिर को NDRF द्वारा सेनेटाइज कराया गया था दूसरी सोनवारी को बाबा मंदिर का नाजारा बदला बदला सा लगा सुरक्षा ब्यवस्था को पहले सोनवारी से ज्यादा कड़ी कर दी गई है और पुजारियों की संख्या भी सीमित कर दी गई है  साथ ही आम स्थानीय श्रद्धालुओ के प्रवेश पर भी पूर्णतः  रोक लगा दी गई है।

यह भी पढ़े…

किशोरी के साथ होते रहा यौन शोषण , सिपाही धमकाते रहा , युवक किशोरी को गर्भवती कर डाला , मामला पहुंचा थाना

पुरोहितों का भी मंदिर गर्भ गृह में सरकारी पूजा के लिए फुट ओवरब्रिज के माध्यम से प्रवेश सामाजिक दूरी के साथ कराया गया।देवड़ी से ने कहा है कि मंदिर में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी है और विशेष व्यवस्था के तहत सिर्फ सीमित पुजारियों को ही पूजा करने की अनुमति दी गई है वहीं दूसरी ओर एसपी की उस पांडे ने कहा है कि मंदिर में नो एंट्री जोन बना दिया गया है बाहरी श्रद्धालुओं पर रोक है और मंदिर में भी सिर्फ तीर्थ पुरोहित ही सीमित संख्या में पूजा कर रहे हैं। दूसरी तरफ बॉर्डर पर चेकिंग बढ़ा दी गई है और आने जाने वाले वाहनों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here