• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

शहीदों की 13वीं का श्राद्ध अच्छे से हुआ संपन्न : मोहन भागवत

1 min read

नई दिल्ली।

शहीदों की 13वीं का श्राद्ध अच्छे से हुआ संपन्न : मोहन भागवत

नई दिल्ली। भारतीय वायु सेना के जैश-ए-मोहम्मद के आतकंवादी प्रशिक्षण ठिकानों पर एयर स्ट्राइक कर नेस्तनाबूत करने की कार्रवाई को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि यह पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों को सच्ची श्रद्धांजलि है। Related image
भागवत ने महान स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर के विचारों को याद किया कि भारत को शक्तिशाली बनने की जरूरत है, क्योंकि बिना शक्ति के कोई उसकी नहीं सुनेगा। उन्होँने कहा कि वायुसेना की एयर स्ट्राइक से पुलवामा के शहीदों की 13वीं का श्राद्ध अच्छे से संपन्न हुआ। आज सावरकर जी के स्मृति दिन हम उन्हें याद कर रहे हैं और इसी दिन पुलवामा के शहीदों की तेरहवीं का श्राद्ध अच्छी तरीके से हुआ। ज्ञात हो कि भागवत कम्प्यूटर वैज्ञानिक विजय भाटकर के सम्मान कार्यक्रम में बोल रहे थे, जिन्हें स्वतंत्र्य वीर सावरकर गौरव पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। गौरतलब है कि 14 फरवरी को जैश-ए-मोहम्मद ने ही जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों पर आत्मघाती विस्फोट की जिम्मेदारी ली थी।

पाकिस्तान ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद इन आतंकवादियों को उनकी सुरक्षा के लिए इस शिविर में भेजा था। करीब 20 मिनट से भी कम समय में अंजाम दिया गया भारतीय वायुसेना का यह हमला अत्यंत त्वरित और सटीक था। उन्होंने कहा, हमें सच बोलने के लिये शक्ति की आवश्यकता नहीं है, लेकिन दुनिया वैसी नहीं है। वह सिर्फ शक्ति को ही समझती है। इसलिये अगर हम दुनिया को अपना आध्यात्म, सत्य और अहिंसा दिखाना चाहते हैं तो हमें शस्त्र संपन्न और ‘शक्ति संपन्न’ बनने की आवश्यकता है।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.