• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

वैज्ञानिकों ने किया दिमाग के उस भाग का अध्ययन जहां पर करंट देने से वापस आ जाती है याददाश्त! क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर………

1 min read

वाशिंगटन।

वैज्ञानिकों ने किया दिमाग के उस भाग का अध्ययन जहां पर करंट देने से वापस आ जाती है याददाश्त! क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर………

वाशिंगटन। वैज्ञानिकों ने दिमाग के उस भाग का अध्ययन किया है जो याददाश्त बनाए रखने का काम करता है।Related image इससे खोई याददाश्त वापस पाने में भी मदद मिलेगी। इस रिसर्च से पता चला है कि लेफट रोस्ट्रोलाटेरल प्रीफंटल कारटेक्स को करेंट देकर उत्तेजित किया जा सकता है। इससे भूली हुई बातें फिर याद आ सकती हैं। इस रिसर्च के एक सीनियर ऑथर ने कहा, ‘जब दिमाग के इस हिस्से की उत्तेजना बढ़ाई गई तो हमने इसक आश्चर्यजनक असर याद रखने की क्षमता पर देखा।’

लेफट रोस्ट्रोलाटेरल प्रीफंटल कारटेक्स माथे के बाईं ओर होता है। यह विचारों पर काम करता है। दिमाग के अन्य भागों में आने वाली सूचनाओं को भी यही हिस्सा प्रोसेस करता है। साइकॉलजिस्ट्स ने एक्सपेरिमेंट के लिए तीन ग्रुप तैयार किए। इनमें औसत 20 साल तक के लोगों को शामिल किया गया। हर ग्रुप में 13 महिलाएं और 11 पुरुष थे।

हर व्यक्ति को कंप्यूटर स्क्रीन पर करीब 80 शब्द दिखाए गए। इसके बाद ये अगले दिन फिर आए। यहां उन्हें हल्के झटके दिए गए जिससेलेफट रोस्ट्रोलाटेरल प्रीफंटल कारटेक्स न्यूरॉन्स की उत्तेजना बढ़ती या घटती है। कुछ देर बाद तीनों ग्रुप को अलग-अलग झटके दिए गए। अंत में पाया गया कि जिन लोगों को न्यूरॉन्स को उत्तेजित किया गया था उनकी स्मृति सबसे तेज थी।

रिसर्चर्स का कहना है कि इसी तरीके से लोगों को वे बातें याद दिलाई जा सकती हैं जो वे भूल गए हैं।एक ग्रुप के लोगों के दिमाग के इस हिस्से की उत्तेजना तेज की गई, एक ग्रुप के दिमाग के इस हिस्से की ऐक्टिविटी को कम किया गया और एक को सामान्य झटके दिए गए।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.