• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

लॉकडाउन 4 की रूपरेखा को लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने बैठक कर किया मंथन

1 min read

लॉकडाउन 4 की रूपरेखा को लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने बैठक कर किया मंथन

NEWS TODAY – कोरोनावायरस के चलते सरकार ने देश व्यापी लॉकडाउन के चौथे चरण की तैयारी कर ली है. इसी कड़ी में शुक्रवार को गृह मंत्री अमित शाह ने नॉर्थ ब्लॉक में देर शाम तक अधिकारियों के साथ बैठक कर नई गाइडलाइंस पर चर्चा की है. माना जा रहा है कि शनिवार को लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइन जारी होने की संभावना के मद्देनजर ये बैठक हुई है.

गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बार फिर सभी राज्यों को पत्र लिख कर सड़क मार्ग से जा रहे प्रवासी श्रमिकों को भोजन, पानी जैसी तमाम मदद पहुंचाने को कहा है. पत्र में साफ कहा गया है कि सड़कों पर यत्र-तत्र चल रहे श्रमिकों को नजदीकी शेल्टर में तब तक रखा जाए जब तक उनको उनके गंतव्य तक छोड़ने का प्रबंध न हो जाए. वहीं लॉकडाउन को लेकर सभी राज्यों से प्राप्त तमाम फीडबैक और आगे जारी होने वाले नए नियमों को लेकर गृह मंत्रालय में शुक्रवार दोपहर से देर शाम तक कई बैठकें हुई. इसी की चलते होम सेक्रेटरी के साथ गृहमंत्री की एक बैठक शाम में भी हुई थी.

ये भी पढे….

अमेरिका, भारत को वेंटिलेटर दान करेगा ट्रंप ने कहा अदृश्य दुश्मन को हराने के लिए एक साथ खड़े रहेंगे’

साथ ही केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को यह सुनिश्चित करने के लिए लिखा है कि सड़कों और रेलवे पटरियों पर प्रवासी श्रमिकों की आवाजाही न हो, और विशेष बसों या विशेष श्रमिक ट्रेनों के माध्यम से उनको आवाजाही की सुविधा प्रदान की जाए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.