• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस!

1 min read

न्यूज टुडे




राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस!
बच्चों को कुपोषण से मुक्त बनाने तथा रक्त की कमी की समस्या को दूर करने के लिए जिला स्वास्थ्य समिति की ओर से आठ फ़रवरी को राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के दौरान बच्चों को पेट में कीड़ा मारने की दवा खिलाई जाएगी।  बच्चों को अल्बेंडाजोल की खुराक दी जाएगी जो बच्चे छूट जाएंगे उन्हें 15 फरवरी को यह खुराक दिया जाएगा. इस अभियान की सफलता को लेकर सिविल सर्जन डॉ आशा एक्का ने बताया कि सभी सरकारी एवं निजी विद्यालयों के अलावा आंगनबाड़ी केंद्रों में दवाइयां खिलाई जाएगी इसको लेकर शिक्षकों सहियाओं आंगनबाड़ी सेविकाओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है.

कल डीआरडीए के सभागार में नगर आयुक्त नगर के सभी सरकारी एवं निजी विद्यालयों के शिक्षकों के साथ बैठक कर बच्चों को दवा खिलाने के लिए प्रेरित करेंगे. सिविल सर्जन ने बताया कि एक से 19 वर्ष के 10 लाख 66 हजार 468 बच्चों को कृमि की दवा खिलाई जाएगी.

1 से 5 वर्ष के बच्चे आंगनवाड़ी केंद्रों में 6 से 19 वर्ष के स्कूलों कालेजों एवं तकनीकी संस्थानों में दवा खिलाई जाएगी एसीएमओ डॉ चंद्रा अंबिका श्रीवास्तव ने कहा कि स्वक्षता से पेट में कृमि नहीं पहुंच सकता है इसके लिए हैंडवाश के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है

जिला आरसीएच पदाधिकारी डॉक्टर संजीव कुमार ने बताया कि 1 से 5 वर्ष के ढाई लाख बच्चे को यह दवा आंगनबाड़ी केंद्रों में खिलाई जाएगी उन्होंने एक आंकड़ा की जानकारी देते हुए बताया कि आंगनवाड़ी केंद्रों में 126000 बच्चे रजिस्टर्ड और 100023 बच्चे अनरजिस्टर्ड रहे थे.

19 साल के 516162 बच्चे हैं जिन्हें कृमि की दवा खिलाए जाना है 2 साल से नीचे के बच्चों को आधी गोली चूर कर पानी में घोलकर खिलाना है और चबाकर भी खा सकते हैं या गोली स्वादिष्ट है.

उन्होंने बताया कि इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है अगर खाने के बाद किसी बच्चे की जीवनी चलाती है और उल्टी होती है तो उसे ओ आर एस का घोल देना है.

इसलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा यह राष्ट्रीय प्रतिरक्षण कार्यक्रम चलाया जा रहा है जिले में 12 लाख 4760 अल्बेंडाजोल उपलब्ध कराया गया है जो लक्ष्य से काफी अधिक है!

न्यूज़ टुडे झारखंड रखे आप के आस पास के खबरों से आप को आगे आप हमें ईमेल भी कर सकते है &newstodayjharkhand@gmail.com watsaap9386192053

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.