• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

राष्ट्रपति के फैसले को चुनौती देने वाली निर्भया दोषी विनय की याचिका SC ने की ख़ारिज

1 min read

राष्ट्रपति के फैसले को चुनौती देने वाली निर्भया दोषी विनय की याचिका SC ने की ख़ारिज

NEWS TODAY – सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को निर्भया कांड के दोषी विनय शर्मा की याचिका को खारिज कर दिया है. याचिका में राष्ट्रपति द्वारा खारिज की गई दया याचिका को चुनौती दी गई थीl जस्टिस अशोक भूषण और एएस बोपन्ना के साथ जस्टिस आर भानुमति की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस पर फैसला सुनायाl चारों दोषियों में से सिर्फ पवन के पास ही सुधारात्मक और दया याचिका का विकल्प (ऑप्शन) हैl
अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश (Additional Sessions Judge) धर्मेद्र राणा ने कहा, “मैं समझता हूं कि पवन के कानूनी वकील को भी थोड़ा समय मिलना चाहिए, ताकि वह मुवक्किल (क्लाइंट) का प्रभावी प्रतिनिधित्व कर सकें और दोषी को कानूनी सहायता महज दिखावा या सतही कार्रवाई जैसी नहीं लगेl
वहीं दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में दोषी विनय शर्मा के वकील एपी सिंह ने अपने क्लाइंट की दया याचिका को खारिज करने के राष्ट्रपति के फैसले पर सवाल उठाए. इस पर अदालत और सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने तीखी आलोचना की, जो इस मामले में केंद्र की ओर से पैरवी कर रहे हैंl
विनय मानसिक तौर पर बीमार: वकील एपी सिंह
एपी सिंह ने दोषी विनय की मानसिक स्थिति के संबंध में भी दलील दी. उन्होंने कहा कि विनय मानसिक तौर पर बीमार चल रहा है और उसका इलाज भी हो रहा है. एपी सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के शत्रुघ्न चौहान के 2014 के फैसले का हवाला दिया, जिसमें कहा गया था कि मानसिक बीमारी से पीड़ित दोषियों की मौत की सजा को बदल दिया जाना चाहिए.
इस पर मेहता ने दलीलें देते हुए कहा, “उनकी नियमित रूप से जांच की गई, जो नियमित जांच का हिस्सा है. जेल मनोचिकित्सक है, जो हर किसी की जांच करता है. ताजा स्वास्थ्य रिपोर्ट के अनुसार उनका स्वास्थ्य अच्छा पाया गया हैl

Leave a Reply

Your email address will not be published.