• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

राज्य की खबरें :बिल्डिंग से कूदकर छात्रा ने दी जान,पिता ने भी की रोकने की कोशिश,नही रुकी छात्रा

1 min read

NEWSTODAYJ_कोटा : बिल्डिंग से कूदकर जान देने वाली छात्रा के मामले में सीसीटीवी फुटेज (CCTV Footage of Girl student suicide case) सामने आया है. फुटेज में देखा जा सकता है कि पिता समेत अन्य लोग छात्रा को रोकने की कोशिश भी कर रहे थे लेकिन उसने छलांग लगा दी. हेवन्स रेजिडेंसी के मैनेजर फूलचंद धाकड़ ने बताया कि सर्वेश यादव रिसेप्शन पर ही बेटी शिखा के नीचे आने का इंतजार कर रहे थे. तभी किसी ने कहा कि एक लड़की बिल्डिंग से कूदने की कोशिश कर रही है.

ऐसे में वह भी बाहर निकल आए तो देखा की वह छात्रा शिखा ही थी. फूलचंद ने बताया कि उनके दूसरे मैनेजर बृजमोहन, हॉस्टल वार्डन किरण और गार्ड भी बाहर आकर उसे बिल्डिंग से न कूदने के लिए आवाज देने लगे. एक दो लोग ऊपर की तरफ उसे पकड़ने के लिए दौड़े, लेकिन शिखा ने किसी की भी बात नहीं सुनी. पिता के सामने ही उसने ऊपर से छलांग लगा दी. वहां मौजूद उसके पिता सर्वेश और हॉस्टल वार्डन किरण सहित अन्य लोगों ने भी उसे पकड़ने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो पाए. जमीन पर गिरते ही शिखा की मौत हो गई.

सहेलियों से की थी बात, 12 बजे थी वापसी की ट्रेन

शिखा कक्षा ग्यारहवीं में पढ़ाई कर रही थी. इसके साथ ही वह मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी भी कर रही थी. शिखा ने शुक्रवार शाम को हॉस्टल के मेस में खाना भी खाया था. उसके साथ में कोचिंग कर रही अन्य छात्राओं के साथ बातचीत भी की. उसने दोस्तों से बताया था कि उसके पिता उसे लेने आ रहे हैं. इस दौरान वह नार्मल ही नजर आ रही थी. उसके साथ कोचिंग कर रही छात्राओं का कहना है कि ऐसा नहीं लगता था कि वह इस तरह का कोई कदम उठा लेगी.

सर्वेश यादव शिखा के हॉस्टल के नजदीक स्थित ब्वॉयज हॉस्टल में ठहरे हुए थे. उनकी दोपहर 12:00 बजे के आस-पास ही वापसी के लिए ट्रेन भी थी. सुबह शिखा को लेने के लिए उसके पिता हॉस्टल पहुंच गए. शिखा का बैग भी पैक होकर रिसेप्शन पर आ गया था. पिता सर्वेश यादव रिसेप्शन पर ही बैठे हुए थे. तभी यह घटना हो गई

Leave a Reply

Your email address will not be published.