राज्यपाल ने कहा- बिनोद बिहारी महतो कोयलाचंल विश्वविद्यालय में वित्त पदाधिकारी का पद सृजित किया जाय। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…..

0
35

रांची।

राज्यपाल ने कहा- बिनोद बिहारी महतो कोयलाचंल विश्वविद्यालय में वित्त पदाधिकारी का पद सृजित किया जाय। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…..

रांची। झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने निदेश दिया कि सेवानिवृत शिक्षकों को ससमय पेंशन मिले, इस हेतु उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग तथा विश्वविद्यालय गंभीर रहें। उन्होंने यह भी कहा कि विभिन्न स्रोतों से यह भी ज्ञात हुआ है कि कुछ सेवानिवृत्त शिक्षकों का पेंशन निर्धारण अभी तक नहीं हुआ है, उनका मामला लंबित वर्षों से लंबित है, ऐसे मामलों का शीघ्र निष्पादन करें। राज्यपाल आज राज भवन में उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के अधिकारियों के साथ विभिन्न बिन्दुओं पर समीक्षा कर रही थीं। इस समीक्षा बैठक में प्रधान सचिव, उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग शैलेश कुमार सिंह, राज्यपाल के प्रधान सचिव सतेन्द्र सिंह, सिदो कान्हु मुर्मू विश्वविद्यालय के कुलपति डा0 एम0पी0 सिन्हा, निदेशक, उच्च शिक्षा डा0 शैलेश कुमार चैरसिया, निदेशक, तकनीकी अरूण कुमार सहित उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे। राज्यपाल ने दुमका सहित राज्य में स्थित अन्य स्थानों पर स्थापित अभियंत्रण महाविद्यालयों का छात्रहित में सत्र 2018-19 से पूर्व सम्बद्धता हेतु शीघ्रातिशीघ्र निर्णय लेकर विद्यार्थियों को परीक्षा में सम्मिलित होने के अनुकूल बनाने के लिए कहा। इस संबंध में अवगत कराया गया कि शीघ्र ही इस मामले को मंत्रिमंडल की बैठक में उपस्थापित कर निश्पादित कर लिया जायेगा। उन्होंने जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा विभाग के शिक्षकों की प्रोन्नति की दिशा में किये जा रहे कार्रवाई की भी समीक्षा की। इसके अतिरिक्त केन्द्रीय विश्वविद्यालय, झारखण्ड को शीघ्र पर्याप्त भूमि उपलब्ध कराने हेतु भी निदेशित किया गया। राज्यपाल ने उरीमारी एवं पोटका के ग्रामीण इलाके में शीघ्र ही डिग्री महाविद्यालय स्थापित करने हेतु निदेशित किया। प्रधान सचिव, उच्च शिक्षा विभाग द्वारा अवगत कराया गया कि बड़कागांव में स्थल चिन्हित कर लिया गया है। साथ ही यह भी कहा कि प्रत्येक विधानसभा में डिग्री महाविद्यालय उपलब्ध कराने हेतु सरकार की योजना है। राज्यपाल ने राज्य में महिला विश्वविद्यालय की स्थापना में गति लाने हेतु भी निदेश दिया तथा पद सृजन में गंभीरतापूर्वक ध्यान देने हेतु कहा। उन्होंने विनोद बिहारी महतो कोयलाचंल विश्वविद्यालय में वित्त पदाधिकारी का पद सृजित करने के लिए भी कहा। उन्होंने राज्य में जनजातीय विश्वविद्यालय की स्थापना हेतु चर्चा करते हुए कहा कि इसके स्थल हेतु बहरागोड़ा उपयुक्त होगा क्योंकि यह स्थान झारखंड के साथ पश्चिम बंगाल और ओडिशा से निकटवर्ती है। राज्यपाल ने विभिन्न विश्वविद्यालयों में कार्यरत अतिथि शिक्षकों को न्यूनतम शिक्षण अवधि के निर्धारण हेतु कहा ताकि उन्हें सम्मानजनक राशि प्राप्त हो सके। बैठक में स्ववित्तपोषित पाठ्यक्रम के शुल्क में एकरूपता अथवा किस प्रकार हो, इस पर भी समीक्षा की गई। उन्होंने चांसलर पोर्टल की आगामी सत्र से पूर्णतः क्रियाशीलता की भी बात कही।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here