• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी निर्मला बहन ने कहा श्रम से ही मनुष्य की पहचान होती है। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर……

1 min read

रांची।

राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी निर्मला बहन ने कहा श्रम से ही मनुष्य की पहचान होती है। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर……

रांची। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के स्थानीय सेवा केन्द्र चैधरी बगान, हरमू रोड, राॅची में अन्तर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस के अवसर पर बोलते हुए राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी निर्मला बहन ने कहा श्रम से ही मनुष्य की पहचान होती है। श्रम से राष्ट्र का निर्माण होता है। इसलिए हमें श्रम का सम्मान करने में कभी हिचकिचाना नहीं चाहिए। कार्य छोटा नहंी, विचार छोटे होते हैं। अतः श्रम दिवस पर सभी श्रमिक स्वयं द्वारा स्वयं के शोषण से बचने का प्रण लें। धन, तन और परिवार का नाश करने वाली स्वयं की गलत आदतों से छुटने की प्रतिज्ञा अवश्य करें। सरकार तथा गैर-सरकारी संस्थाएं और वे संस्थान जहाॅ वे सेवारत हैं, समय-समय पर निःशुल्क व्यसनमुक्त शिविर आयोजित कर इन्हें जागृति दें। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय इस क्षेत्र में विशेष प्रयत्नशील है और लाखों को व्यसनमुक्त बनाने में सफल हुआ है।

स्थानीय ब्रह्माकुमारी केन्द्र चैधरी बगान, हरमू रोड राॅची इस सेवा में तत्पर है। श्रमिकों और श्रम को सलाम करते हुए पुनः अपने कर्मठ श्रमिक भाई-बहनों से एक ही अपील है, तोड़ो, व्यसनों की कारा तोड़ो।
भगवान ने धरती पर किसी को भी मजदूर बनाकर नहीं भेजा, सभी को राजा बनाकर भेजा है। हम सभी भगवान के राजा बेटे हैं। मानव जीवन पुरूष और प्रकृति का खेल है। आत्मा पुरूष , प्रकृति के बने शरीर को धारण कर रंगमंच पर अपनी भूमिका निर्वहन करती है। इस अर्थ में हरएक आत्मा जन्मजात मालिक (राजा) है और शरीर तथा कर्मेन्द्रियाॅ उसके कर्मचारी और नौकर हैं। जब व्यक्ति स्वस्वरूप में टिककर, अपने को इन्द्रियों का राजा अनुभव करते हुए कर्म करता है तो कर्म खेल लगता है, कर्म आनन्दकारी बन जाता है। इसके विपरीत यदि वह दे हके अभिमान में अर्थात् स्वयं को देह मानकर कर्म करता है तो उसे कर्म करते भारीपन आता है, आलस्य भी आता है और वह कामचोर भी कभी बन जाता है।

मैं आत्मा राजा हॅू और कर्मेन्द्रियाॅ मेरी कर्मचारी हैं यदि यह हम स्मृति में बनाए रखें, साक्षी होकर कर्मेन्द्रियों से कर्म करवाएं तो वह कर्मचारी जैसा कार्य करते भी राजा जैसी उॅची स्थिति का आनन्द ले सकता है।
ज्ञातव्य हो कि ब्रह्माकुमारी संस्थान चैधरी बगान, हरमू रोड, राॅची में प्रतिदिन संध्या तथा प्रातः राजयोग की शिक्षा निःशुल्क उपलब्ध है।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.