• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

महज 27 वर्ष की अंबा प्रसाद ने बड़कागांव विधानसभा सीट जीतकर रचा इतिहास

1 min read

महज 27 वर्ष की अंबा प्रसाद ने बड़कागांव विधानसभा सीट जीतकर रचा इतिहास

NEWS TODAY ::  खुद के हौसले और जनता की चाह ने बड़कागांव विधानसभा सीट से अंबा प्रसाद को सबसे कम उम्र की विधायक बना डाला। आपको बता दें कि, कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर मैदान मे उतरी अंबा प्रसाद ने 30,140 मतों से अपने निकटतम प्रतिद्वंदी आजसू पार्टी के प्रत्याशी रोशनलाल चौधरी को हराकर इतिहास रच दिया। 27 वर्ष की अंबा प्रसाद के माता और पिता भी इसी सीट से 2009 और 2014 में चुनाव जीता था वहीं अपने परिवार कि जीत को बरकरार रखते हुए अंबा ने हैट्रिक लगाई है। बता दें कि अंबा को 93,295 वोट तो रोशनलाल चौधरी को 63,116 वोट मिले।

बड़कागांव से कांग्रेस के टिकट पर जीत हासिल कर इतिहास रचनेवाली अंबा प्रसाद ने पिता योगेंद्र साव और मां निर्मला देवी के आंदोलन को न सिर्फ जिंदा रखा, बल्कि उनकी राजनीतिक विरासत को भी बचाए रखने में कामयाब हुईं।कार्मेल स्कूल से पढ़ाई करने के बाद 12वीं की पढ़ाई डीएवी स्कूल, हजारीबाग से पूरी की। 2009-12 में विभावि से एलएलबी की डिग्री हासिल करने के बाद संत जेवियर्स कॉलेज, रांची से 2012-14 में पीजीडीएम (एचआर) की डिग्री हासिल की।

उसके बाद सिविल सर्विसेज की तैयारी के लिए दिल्ली चली गईं। इसी क्रम में कफन सत्याग्रह के दौरान माता निर्मला देवी और पिता योगेंद्र साव को जेल भेज दिया गया, तो अंबा प्रसाद दिल्ली की पढ़ाई छोड़कर हजारीबाग लौट आई। फिर हजारीबाग कोर्ट में प्रैक्टिस शुरू किया और माता -पिता पर दर्ज मुकदमों को उन्होंने देखना शुरू कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.