• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

मनोज कुमार के जन्मदिन पर जानें उनसे जुड़ी रोचक बातें…….

1 min read

मुंबई।

मनोज कुमार के जन्मदिन पर जानें उनसे जुड़ी रोचक बातें…….

मुंबई। मनोज कुमार एक ऐसी शख्सियत थे जब के फिल्म इन्डस्ट्री में टॉप पर थे उस दौरान वे फिल्मों में रोमांस करने की बजाय देशभक्ति फिल्में करना पसंद करते थे। मनोज कुमार का पांच फिल्मों में भारत नाम रहा, जिसके कारण ये भारत कुमार के नाम से भी लोकप्रिय हो गए। मनोज ने अपने कैरियर में शहीद, उपकार, पूरब और पश्चिम तथा क्रांति जैसी देशभक्ति पर आधारित अनेक बेजोड़ फिल्मों में काम किया। शहीद उनकी सर्वश्रेष्ठ फिल्म मानी जाती है। इस फिल्म में उनके द्वारा निभाया गया शहीद भगतसिंह का किरदार बेहतरीन रहा। शहीद के दो साल बाद उन्होंने बतौर निर्देशक अपनी पहली फिल्म उपकार का निर्माण किया।
हिन्दी सिनेमा जगत में मनोज कुमार का नाम कभी अभिनय के लिए नहीं बल्कि उनकी फिल्मों के लिए लिया जाता है। जिस समय सभी अभिनेता रोमांटिक छवि की फिल्में करना पसंद करते थे उस समय मनोज कुमार ने हिन्दी सिनेमा का रुख देशभक्ति की तरफ किया और देश के युवाओं तक देशभक्ति को एक नए रूप में पेश किया। मनोज कुमार ने अपनी फिल्मों में भारतीयता की खोज की। उन्होंने यह भी बताया कि देशप्रेम और देशभक्ति क्या होती है।
यह भी सच है कि यदि मनोज कुमार सन 1967 में उपकार न बनाते तो वह आज न तो भारत कुमार होते और शायद उन्हें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार भी नहीं मिला होता। मनोज कुमार ने हर बार इस सच को स्वीकारत किया कि उपकार का ही उपकार है मुझ पर, जिसने मेरी जिंदगी बदल दी। उपकार देश की ऐसी पहली फिल्म थी जिसमें किसान समस्या और उनके योगदान के साथ देश के वीर जवानों यानी फौजियों के योगदान को भी एक साथ दिखाया था। इस फिल्म के सुपरहिट होने के बाद वह खुद मनोज कुमार कम और भारत कुमार ज्यादा हो गए।
मनोज कुमार की फिल्म उपकार खूब सराही गई और उसे सर्वश्रेष्ठ फिल्म, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक, सर्वश्रेष्ठ कथा और सर्वश्रेष्ठ संवाद श्रेणी में फिल्मफेयर पुरस्कार मिला था। वर्ष 1957 से 1962 तक मनोज कुमार फिल्म इंडस्ट्री मे अपनी जगह बनाने के लिये संघर्ष करते रहे। फिल्म फैशन के बाद उन्हें जो भी भूमिका मिली वह उसे स्वीकार करते चले गये। इस बीच उन्होंने कांच की गुडिय़ा, रेशमी रूमाल, सहारा, पंचायत, सुहाग सिंदूर, हनीमून, पिया मिलन की आस जैसी कई बी ग्रेड फिल्मों मे अभिनय किया। लेकिन इनमें से कोई भी फिल्म बाक्स आफिस पर सफल नहीं हुयी।
मनोज कुमार का असली नाम नाम हरिकिशन गिरी गोस्वामी है। उनका जन्म 24 जुलाई 1937 में एट्वाबाद(अब पकिस्तान) में हुआ था। वह जब दस वर्ष के थे बटवारें की वजह से उनका पूरा परिवार राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में आकर बस गया। बचपन के दिनों में मनोजकुमार ने दिलीप कुमार की फिल्म शबनम देखी थी। फिल्म में दिलीप कुमार के किरदार का नशा मनोज कुमार पर चढ़ गया कि उन्होंने भी फिल्म अभिनेता बनने का फैसला कर लिया। मनोज कुमार ने अपनी स्नातक की शिक्षा दिल्ली के हिंदू कॉलेज से पूरी की, इसके बाद बतौर अभिनेता बनने का सपना लेकर वह मुंबई आ गये। बतौर अभिनेता मनोज कुमार ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1957 में रिलीज फिल्म फैशन से की। कमजोर पटकथा और निर्देशन के कारण फिल्म टिकट खिडक़ी पर बुरी तरह से नकार दी गयी।
मनोज कुमार के अभिनय का सितारा निर्माता-निर्देशक विजय भट्ट की वर्ष 1962 में प्रदर्शित क्लासिक फिल्म हरियाली और रास्ता से चमका। फिल्म में उनकी नायिका की भूमिका माला सिन्हा ने निभायी। बेहतरीन गीत-संगीत और अभिनय से सजी इस फिल्म की कामयाबी ने मनोज कुमार को स्टार के रूप में स्थापित कर दिया। वर्ष 1964 में मनोज कुमार की एक और सुपरहिट फिल्म वो कौन थी प्रदर्शित हुई।
1965 में मनोज कुमार की सुपरहिट फिल्म गुमनाम और दो बदन भी रिलीज हुई। 1965 में मनोज कुमार शहीद में भगत सिंह के किरदार में नजर आये। वर्ष 1967 में रिलीज फिल्म उपकार से मनोज कुमार निर्माता-निर्देशक बने। यह फिल्म स्व.प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जय जवान जय किसान के नारे पर आधारित थी, मनोज कुमार ने किसान की भूमिका के साथ ही जवान की भूमिका में भी दिखाई दिये। 1970 में मनोज कुमार के निर्माण और निर्देशन में बनी एक और सुपरहिट फिल्म पूरब और पश्चिम प्रदर्शित हुयी। फिल्म के जरिये मनोज कुमार ने एक ऐसे मुद्दे को उठाया जो दौलत के लालच में अपने देश की मिट्टी को छोडक़र पश्चिम में पलायन करने को मजबूर है। 1972 में मनोज कुमार के सिने करियर की एक और महत्वपूर्ण फिल्म शोर प्रदर्शित हुई। वर्ष 1974 में प्रदर्शित फिल्म रोटी कपड़ा और मकान मनोज कुमार के करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में शुमार की जाती है । वर्ष 1976 में प्रदर्शित फिल्म दस नम्बरी की सफलता के बाद मनोज कुमार ने लगभग पांच वर्षो तक फिल्म इंडस्ट्री से किनारा कर लिया। वर्ष 1981 में मनोज कुमार ने फिल्म क्रांति के जरिये अपने सिने करियर की दूसरी पारी शुरू की। मनोज कुमार ने अपने दौर के सभी नायकों और नायिकाओं के साथ काम किया, राजेंद्र कुमार और राजेश खन्ना के दौर में भी वो कामयाब रहे और 1962 से लेकर 1981 तक सुपर हिट फि़ल्में देते रहे।
अपने सिने करियर में मनोज कुमार सात फिल्मफेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये है। वर्ष 1967 में प्रदर्शित फिल्म उपकार के लिये उन्हें सर्वाधिक चार फिल्म फेयर पुरस्कार दिये गये जिनमें सर्वश्रेष्ठ फिल्म, निर्देशन, कहानी और डॉयलाग का पुरस्कार शामिल है। इसके बाद वर्ष 1972 में प्रदर्शित फिल्म बेईमान, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता 1974 में प्रदर्शित फिल्म रोटी कपड़ा और मकान, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक, वर्ष 1998 में लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार से भी मनोज कुमार को सम्मानित किया गया।
1992 में उन्हे भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया गया। 2008 में उन्हे स्टार स्क्रीन लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार दिया गया। 2009 में दादा साहेब फाल्के अकादमी द्वारा फाल्के रत्न पुरस्कार दिया गया। 2012 संयुक्त राज्य अमेरिका के न्यू जर्सी शहर में उन्हे भारत गौरव पुरस्कार दिया गया। 2013 में जागरण फिल्म महोत्सव में उन्हे लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 3 मई 2016 को दिल्ली में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के हाथों मनोज कुमार को फिल्म उद्योग में उनके योगदान के लिए फिल्म जगत का सबसे बड़ा दादा साहब फाल्के पुरस्कार प्रदान किया था।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.